पूर्व विधायक के बेटे की गुंडई, आखें बंद कर बैठा पुलिस प्रशासन

मेरठ में बसपा नेता और मीट कारोबारी हाजी याकूब की बेटी की गुंडागर्दी के बाद अब उसके बेटे की गुंडागर्दी सुर्खियों में है। दरअसल सड़क जाम मिलने पर हाजी याकूब के बेटे फीरोज उर्फ भूरा ने अपने बाउंसरों के साथ मिलकर एक व्यापारी की जमकर पिटाई कर दी। इतना ही नहीं पिटाई के बाद भूरा ने व्यापारी की कनपटी पर पिस्टल रखकर उसे जान से मारने की धमकी भी दी। एडीजी मेरठ के आदेश के बाद केस दर्ज कर लिया गया है। याकूब का बिगड़ैल सपूत इससे पहले मेरठ में कई पुलिसवालों की पिटाई भी कर चुका है।

purv leader son, beaten a business man, road, meerut, crime, police
beaten a business man

क्रांति के शहर मेरठ में इन दिनों दहशत का साया है। यह दहशत है मेरठ के बसपा नेता और मीट कारोबारी हाजी याकूब की गुंडाफैमिली की। हाजी याकूब के बेटे फिरोज उर्फ भूरा ने शनिवार की शाम मेरठ के सोहराब गेट इलाके में विजय रस्तोगी नाम के व्यापारी की सरेआम दिनदहाड़े पिटाई की। केवल भूरा ने नहीं उसके बाउंसरों ने भी विजय रस्तोगी को पहले उसकी दुकान में और फिर सड़क पर गिरा कर पीटा। पिटाई से जब गुंडों का दिल भर गया तो भूरा ने अपनी पिस्टल निकाल कर विजय की कनपटी से सटा दी और उसे जान से मारने की धमकी देकर चला गया। ये पूरी वारदात सोहराब गेट पुलिस चौकी के नाक के नीचे की है यानी याकूब के सपूत की हरकतों को कानून के नुमाइंदे अपनी आंखों से देखते रहे लेकिन किसी ने चूं तक नहीं की।

विजय रस्तोगी की तहरीर पर कोतवाली सिटी पुलिस ने आधी रात के बाद बामुश्किल केस दर्ज किया है। लेकिन शहर में गुंडागर्दी और व्यापारियों में दहशत फैलाने वाले भूरा और उसके बाउंसरों की अभी तक पुलिस ने गिरफ्तारी नही की है। आपको बता दें कि याकूब की गुंडाफैमिली की गुंडई का शहर में यह पहला मामला नहीं है। लेकिन हर वारदात के बाद याकूब की चांदी का चश्मा चढ़ाए बैठी पुलिस कोई कार्रवाई नहीं करती। फिलहाल देखना होगा की इस मामले में आगे पुलिस क्या कार्रवाई करती है।

अभी पिछले महीने ही हाजी याकूब की हंटरवाली बेटी आशमां ने शहर के एमपीजीएस स्कूल में टीचर और छात्राओं पर चाबुक चलाया था। चाबुक भी ऐसा जो घोड़ो की नकेल कसने में इस्तेमाल किया जाता है। सीसीटीवी में कैद वीडियो दुनिया ने देखी लेकिन मेरठ की कमजोर पुलिस को गुंडागर्दी फैलाने वाली हाजी याकूब की लाड़ली की हरकत नहीं दिखी। कार्रवाई के तमाशे के बाद पुलिस ने आसमां को हाईकोर्ट जाने दिया और उसे राहत दे दी। पुलिस भूरा की गुंडई के मामले में भी इसी तरह की कार्रवाई करने का मूड बनाए बैठी है लेकिन एडीजी मेरठ ने इस बार एसएसपी मंजिल सैनी को इस मामले में सख्ती बरतने के आदेश दिए है। एडीजी के आदेश के बाद हाजी याकूब अपने बेटे को जेल जाने से बचाने के लिए पीड़ित व्यापारी पर दबाब बना रहा है। व्यापारी पर दबाब है समझौते का।