संघ नेता पर हमले की सीबीआई जांच शुरू

चंडीगढ़। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के नेता ब्रिगेडियर (सेवानिवृत्त) जगदीश गगनेजा के हमलावरों की गिरफ्तारी में पंजाब पुलिस की नाकामी पर राज्य सरकार ने इसमें विदेशी हाथ का इशारा करते हुए केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से हमले की जांच करने को कहा थी। राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने कहा, “हमले के साजिशकर्ताओं और विदेश में रहने वाले देश विरोधी सह-साजिशकर्ताओं की गिरफ्तारी के लिए पंजाब सरकार जांच को सीबीआई को सौंपती है।”

jagdish

उन्होंने कहा, “आरोपियों पर मुकदमा चलाने को लेकर एक मजबूत अंतर-एजेंसी दृष्टिकोण की जरूरत को देखते हुए यह फैसला लिया गया है।”

इससे पहले, सीबीआई जांच की सिफारिश राज्य के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) सुरेश अरोड़ा ने की थी। पुलिस ने गगनेजा पर हमले की जांच के लिए पहले एक विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया था। प्रवक्ता ने कहा, “एसआईटी जांच में यह खुलासा हुआ कि हमले में देश विरोधी तत्वों का हाथ होने की संभावना है, जिनका विदेश में रहने वाले उग्रवादियों के साथ गठजोड़ हो सकता है।”

उन्होंने कहा, “हमले का मकसद पंजाब की शांति को नुकसान पहुंचाना है। यह हमला राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियों में रहा है।” जालंधर में छह अगस्त को दो युवकों ने काफी नजदीक से आरएसएस पंजाब के वरिष्ठ उपाध्यक्ष गगनेजा के पेट में तीन गोलियां मारी थीं। गंभीर रूप से घायल गगनेजा को जालंधर में एक निजी अस्पताल से हीरो डीएमसी हार्ट इंस्टीट्यूट में भर्ती कराया गया था। मामले में पंजाब पुलिस अब तक किसी को भी गिरफ्तार नहीं कर पाई है।