पंजाब सरकार के पूरे हुए 100 दिन, क्या जनता के फैसले पर खरी उतरी कैप्टन सरकार

शुक्रवार को पंजाब में कांग्रेस सरकार के 100 दिन पूरे हो गए हैं। अपनी सरकार के 100 दिन पूरे होने के बाद अब सरकार की घोषणाएं तथा चुनावी वादों के पूरे होने पर सबकी नजर थी। लेकिन कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में पंजाब को किए गए कुछ वादे तो पूरे हुए हैं। लेकिन कुछ वादे अभी भी जमीन पर उतरने का इंतजार कर रहे हैं। कांग्रेस सरकार ने पंजाब में अपने द्वारा किए गए कई सारे वादों को पूरा किया है। जिसमें इंडस्ट्री को पांच रुपए प्रति युनिट बिजली मुहैया कराना था। अपने इस वादे को सीएम ने पूरा किया है। हालांकि नई औद्योगिक नीति के बारे में बताया जाए तो यह अभी तक पास नहीं हो पाई है। वही पंजाब सरकार द्वारा बजट में इंडस्ट्री की तरफ कुछ खास ध्यान नहीं दिया गया है।

कांग्रेस सरकार जैसे ही पंजाब में सत्ता में आई तो अपने कहे के अनुसार कांग्रेस सरकार ने वीआईपी कल्चर को खत्म कर दिया और लाल बत्ती हटा दी। हालांकि पंजाब के बाद देश के सबसे बड़े सूबे यूपी तथा केंद्र द्वारा भी इस कदम को उठाया गया है। वही सत्ता में आने से पहले यह वादा किया गया था कि हेलिकॉप्टर का प्रयोग कही पर भी नहीं किया जाएगा लेकिन इस वादे को ताक पर रखकर सीएम के साथ साथ पंजाब के मंत्री भी हेलिकॉप्ट में यात्रा करते हुए कई बार दिखाई दिए हैं। कांग्रेस सरकार के सत्ता में आने से पहले यह दावा किया गया था कि पंजाब में कर्जा कुर्की को खत्म किया जाएगा। ऐसे में सरकार द्वारा कर्जा कुर्की पर अंकुश लगाया गया।

सरकार ने अपने वादे के मुताबिक 2 लाख रुपए तक किसानों के कर्जे को समाप्त भी कर दिया। लेकिन बजट में इसके लिए 1500 करोड़ रुपए रखने के बाद पंजाब में सरकार विवादों के कटघरे में आ गई। ऐसे में वित्त मंत्री के साथ साथ सीएम को भी सफाई देनी पड़ी की यह कर्जे की पहली किस्त है और किसानों पर चढ़ा हुआ कर्जा सरकार अपने उपर ले लेगी। वही इस सब के बीच पंजाब के कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड़ का दावा है कि 100 दिनों के भीतर पंजाब में सरकार ने काफी सहारनीय काम किया है। लेकिन अकाली दल समेत बीजेपी ने भी कांग्रेस सरकार पर जनता के साथ धोखाधड़ी करने का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि 100 दिनों के बाद भी पंजाब में कोई काम काज नजर नहीं आ रहा है।