सिद्धू बोले- फास्टवे ने सरकार को लगाया 684 करोड़ का चूना, वसूलेंगे जुर्माना

पंजाब में स्थानीय निकायमंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने फस्टवे पर जाल बिछाने की तैयारियां अब तेज कर दी है। उनके हिसाब से उन्होंने संबंधित मामले में रिपोर्ट भी ली है। उनके हिसाब से फास्टवे ने पंजाब में जीकरपुर छोड़कर पूरे सूबे में कही पर भी अंडरग्राउंड केबल डालने की मंजूरी नहीं ली है। स्थानीय निकायमंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने रविवार को कांग्रेस भवन में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर यह कहा कि उन्होंने पंजाब में 270 जूनियर इंजीनियर्स को बुलाया है। उन्हें बुलाकर सिद्धू ने इस मामले में रिपोर्ट भी ली है।


प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए सिद्धून ने कहा कि यह छोटी बात नही है कि जो कंपनी 25 लाख रुपए से शुरू हुई थी अब सह 30 करोड़ का मुनाफे में जा रही है। सिद्धू का कहना है कि फास्टवे प्राइवेट मिनिटेड ने सरकारी खजाने से 684 करोड़ रुपयों की धांधलेबाजी की है।  उन्होंने बताया कि ब्याज समेत 220 करोड़ रुपयों का सेल्स टैक्स, 184 करोड़ रुपयों का मनोरंजन कर तथा कई सारे कर इसमें शामिल हैं। आपको बता दें कि विधानसभा में सत्र पेश होने के वक्त कांग्रेस के विधायक सुखजिंदर रंधावा ने फास्टवे पर सवाल उठाया था। जिसके बाद सिद्धू ने संबंधित मामले में पूरी जानकारी लेने के बाद इस बारे में आगे कुछ भी बोलने की बात कही थी।

सिद्धू का कहना है कि रिपोर्ट के आधार पर अब फास्टवे से जुर्माना भी वसूला जाएगा। उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए फास्टवे से जुर्माना भी वसूलने की बात कही और कहा कि इसके लिए तैयारियां की जा रही है और जल्द ही इस मामले की रिपोर्ट सीएम को भेजी जाएगी। सिद्धू का कहना है कि रिपोर्ट में सामने आया है कि फास्टवे ने जीकरपुर छोड़कर पूरे सूबे में कही पर भी अंडरग्राउंड केबल बिझाने की मंजूरी नहीं ली है।