गुजरात में जीत की खुशी मना रही बीजेपी के खिलाफ यूपी में बीटीसी और टीईटी के अभ्यार्थियों ने किया प्रदर्शन

लखनऊ। गुजरात में जीत की खुशी मना रही बीजेपी के खिलाफ उत्तर प्रदेश में बीटीसी और टीईटी पास दर्जनों अभ्यार्थियों ने प्रदर्शन किया। अभ्यार्थी शिक्षा मित्रों को दिए जा रहे 25 अंक के भारांक की नीति वापस लेने की मांग कर रहे थे। हाथों में बैनर और पोस्टर लेकर विधानसभा के सामने पहुंचे अभ्यार्थियों की मांग है कि सरकार जल्द ही एक लाख सहायक अभ्यार्थियों की भर्ती के लिए विज्ञापन निकाले। उनका कहना था कि लिखित परीक्षा न होकर ओएमआर शीट पर परीक्षा कराई जाए।

protest
protest

बता दें कि उनका कहना है कि 30 से 40 फीसदी कट ऑफ अंक का निर्धारण किया जाए। परीक्षा मॉडल पेपर जारी हो जिसमें अभ्यार्थी को परीक्षा के प्रारूप का पता चल सके शिक्षा मित्रों के आंदोलन के बाद प्रदेश सरकार ने शिक्षक भर्ती में शिक्षा मित्रों को 25 अंक का भारांक दिए जाने की नीति बनाई थी। जिसका विरोध अभ्यार्थी कर रहे थे और उनकी मांग थी कि सरकार यह आदेश वापस ले।

वहीं सहायक अध्यापकों के पदों पर नियुक्ति के लिए अभ्यर्थी का टीईटी की लिखित परीक्षा पास करना जरूरी है। इसके बाद अभ्यर्थी के दसवीं से लेकर स्नातक तक और बीटीसी में मिले अंकों का दस प्रतिशत निकाला जाएगा। यह दस फीसदी टीईटी परीक्षा के रिजल्ट के बाद मिले अंक में जोड़ा जाएगा। कुल अंकों से बनी मेरिट के आधार पर भर्ती होनी है। इसी प्रक्रिया में शिक्षा मित्रों को 2.5 अंकों का भारांक दिया जाना है।