नोटबंदी के दौरान हुए करेंसी घोटाले में एक्सिस बैंक अधिकारियों की संपत्ति जब्त

नई दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने नोटबंदी के दौरान एक्सिस बैंक की दिल्ली स्थित कश्मीरी गेट शाखा के अधिकारियों और उनके साथियों की 8 करोड़ 47 लाख रूपये की संपत्ति जब्त कर ली है। इन लोगों पर नोटबंदी के दौरान 40 करोड़ रुपये के पुराने नोट बदलने में कालेधन को सफेद करने का आरोप था। अब तक की कार्रवाई में ईडी इन लोगों की 15 करोड़ 23 लाख रुपये से ज्यादा की संपत्ति जब्त कर चुका है।

axis bank
axis bank

बता दें कि प्रवर्तन निदेशालय ने बताया कि नितिन गुप्ता, मोहित गर्ग, प्रतीक बंसल, लोकेश मकीन और अन्य की 8 करोड़ 47 लाख रूपये की संपत्ति जब्त की गई है। कश्मीरी गेट पुलिस स्टेशन में नवंबर, 2016 को एफआईआर दर्ज की गई थी। ये मामला एक वाहन में एक हजार के नोटों के रूप में 3.70 करोड़ रुपये मिलने के बाद दर्ज किया गया था। जिसके बाद मोहित गर्ग, राजकुमार शर्मा और देवेंद्र कुमार झा के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय ने अपनी जांच शुरू की थी।

ईडी की जांच में पता चला कि इन लोगों ने मिलकर नोटबंदी के दौरान करीब 40 करोड़ रुपये राजीव कुमार कुशवाहा नाम के शख्स की विभिन्न फर्जी कंपनियों के बैंक खातों में जमा किए। फिर उसे सर्राफा कारोबारियों के बैंक खातों में ट्रॉन्सफर किया। इस तरह उस पैसे को सोने में परिवर्तित कर हेराफेरी की गई। इस तरह मोहित गर्ग और राजीव कुमार कुशवाहा ने 15 फीसदी कमीशन कमाया। वहीं एक्सिस बैंक के अधिकारियों को 2 फीसदी कमीशन मिला था। प्रर्वतन निदेशालय ने अपनी जांच में इन लोगों को दोषी पाया और अब तक इनकी 15,23,49,144 रूपये की चल-अचल संपत्ति जब्त कर ली है।