प्राइवेट एम्बुलेंस पर कार्यवाई, मेडिकल कालेज के गेट पर धरना देने बैठे संचालक

मेरठ। मेरठ मेडिकल कॉलेज में चल रही प्राइवेट अवैध एम्बुलेंस बन्द होने पर एम्बुलेंस संचालक अब दबंगई पर उतार आए है, संचालक मेडिकल कालेज के गेट पर ही धरने पर बैठ गए है और मेडिकल कालेज के डॉकटराें के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए। डॉक्टरों पर न केवल गंभीर आरोप लगा रहे है बल्कि डॉक्टर को फोन कॉल के माध्यम से हटवाने की धमकी भी दे रहे है।

आपको बता दें मेरठ मेडिकल कालेज में पिछले काफी वर्षो से प्राइवेट एम्बुलेस संचालक दबंगाई से अपनी एम्बुलेंस चला रहे थे, जिसमे कई बार इन संचालकों पर मरीज को कमीशन के चक्कर में मेडिकल के बजाए प्राइवेट अस्पताल में भर्ती करने के आरोप लगे है। इनका जमावड़ा मेडिकल कालेज से हटाने के लिए कई बार बड़े स्तर पर अभियान भी चलाए गए, लेकिन कुछ राजनितिक लोगों के चलते इनको मेडिकल से नही हटाया जा सका। इस बारे में सपा के नेता अतुल प्रधान का नाम लेकर सीएमएस को कॉल करके धमकाया गया, लेकिन अब सरकार बदली है, तो निजाम भी बदल गया है, और अब खुद एसएसपी मेरठ ने 13 एम्बुलेंस को सीज करके सभी अवैध एम्बुलेंस को हटवा दिया, जिससे गुसाए संचालक गेट पर ही धरने पर बैठ गए, और अपनी नाजायज मांग को मनवाने के लिए जिद पर अड़े है, इतना ही नही, अस्पताल के डॉकटरां पर गंभीर आरोप लगा रहे है।

उधर सीएमएस का कहना है कि ये लोग काफी दिनों से गुंडागर्दी करते हुए अपने अवैध काम को कर रहे है, इनको हटाने की बात करने पर ही ये दबंगई दिखाते हुए नेताओ से हटवाने की धमकी दिलाते है, जिसकी रिकॉर्डिंग भी सीएमएस ने दी। सीएमएस की माने तो सरकारी परिसर में प्राइवेट एम्बुलेंस नही चलाई जा सकती है, लेकिन ये दबंग मेडिकल कालेज में ही अवैध रूप से कब्जाकर अपनी कॉमर्सियल एक्टिविटी कर रहे है, कई एम्बुलेंस चला रहे है। ऐसे में डॉकटरो ने भी सीएम से मांग की है कि इस तरह की समस्याओ पर भी अपनी निगाह डाले और ऐसे अवैध काम खत्म कराए।

 -शानू भारती, संवाददाता मेरठ