बाबा साहेब का जन्मदिवस को संयुक्त राष्ट्र संघ विश्व ज्ञान दिवस के रुप में मनाने की तैयारियां

फतेहपुर। भारतीय संविधान के निर्माता एवं भारत रत्न बाबा साहेब डॉक्टर भीमराव अम्बेडकर के 126 वां जन्म दिवस को संयुक्त राष्ट्र संघ विश्व ज्ञान दिवस के रूप में मनायेगा। वहीं भारत सरकार समरसता दिवस के रुप मनाकर सदियों से पशुवत व्यवस्था में जीवन यापन करने वाले करोड़ों लोगों के मुक्तिदाता को आदरांजलि अर्पित करेगी।

उत्तर प्रदेश कि दोआबा कि धरती में बसे फतेहपुर जनपद में लाखों की तादाद में दलित एवं पिछडे वर्ग के लोग अम्बेडकर साहब को अपना मसीहा मानते हैं। चौदह अप्रैल को उनकी जयंती एवम छह दिसम्बर को परिनिर्वान दिवस पर फतेहपुर कचहरी के अम्बेडकर पार्क में भारी तादाद में जनपदवासी एकत्र होकर अपने मसीहा के बताये रास्ते पर चलने का संकल्प लेते हैं परंतु लाखों अनुयायियों कि आस्था का प्रतीक अम्बेडकर पार्क शासन, जिला प्रशासन, नगर पालिका परिषद प्रशासन कि उपेक्षा का शिकार होने के कारण बदहाल हो गया है। बहुजन समाज पार्टी के शासनकाल में पार्क का सौंदर्यीकरण को देख कर सिर्फ अम्बेडकर अनुयायी ही नही, कचहरी एवं दीवानी न्यायालय आने वाले लोग भी फूले नही समाते थे।

जब कि कलेक्ट्रेट स्थित गांधी पार्क कि रंगाई-पुताई कराये जाने से उनका दर्द स्पष्ट झलक रहा है। विधानसभा चुनाव में जिले कि छह विधान सभा से भाजपा प्रत्याशियों कि जीत सुनिश्चित कराने तथा बसपा प्रत्याशियों को करारी शिकस्त दिलाने में दलित, पिछडे वर्ग का महत्वपूर्ण योगदान रहा है परंतु भाजपा सरकार बनने के बाद उनके महापुरुष कि उपेक्षा होने से यह लोग अपने आपको ठगा महसूस कर रहे हैं। अम्बेडकर जयंती समारोह कि तैयारी को लेकर पार्क का सफाई, विद्युतीकरण, रंगाई-पुताई एवम मरम्मतीकरण कराने के लिए भीमराव अम्बेडकर विकास समिति के कोषाध्यक्ष गयाप्रसाद, उपाध्यक्ष राजकुमार तिलक ने नगर पालिका परिषद के अधिशाशी अधिकारी को पत्र भी दिया है, लेकिन अभी तक किसी भी समस्या का निराकरण कराने कि पहल नही की गयी है। जिसकी वजह से अब अम्बेडकर अनुयायी स्वयं श्रमदान कर घास कि सफाई कर रहे हैं, और सूख रहे पेड़ पौधों कि सिंचाई कर रहे हैं।

 -मुमताज़ अहमद