सियासत की वजह से है भारत-पाकिस्तान के बीच दूरियां

हरिद्वार। सावन के पहले सोमवार पर गंगा का आशीष लेने पहुंचे पाकिस्तान के सिंध प्रांत के 50 साल के दयाराम तीर्थनगरी हरिद्वार पहुंचे। यहां पहुंचकर उन्होंने मां गंगा में स्नान कर उनका आशीर्वाद लिया। दयाराम का कहना हा कि उनकी बहुत इच्छा थी कि वो गंगा स्नान करें। दया राम का कहना है कि भारत उनके पुरखों की देश है और उनको यहां आकर बहुत खुशी मिली है। दयाराम ने दोनों देशों के बीच बढ़ रहे तनाव को लेकर दुख जताते हुए कहा कि दोनों देश एक हो सकते हैं लेकिन सियासतें इन्हें एक नहीं होने देती। दोनों देशों के लोग एक दूसरे से बहुत मोहब्बत करते हैं लेकिन सियासत इनके बीच की खाई बनी हुई है जो इन दोनों देशों को एक नहीं होने देती।

बता दें कि भारत-पाकिस्तान के बीच चल रहे तनाव के बाद तीर्थनगरी हरिद्वार पहुंचे दयाराम का कहना है कि गंगा स्नान की उनकी बहुत इच्छा थी। यहां आकर वह इच्छा पूरी हो गई। वह यहां अपने पुरखों के देश में आए हैं। उनका कहना था कि दोनों देश मिलकर आगे बढ़ सकते हैं, किन्तु एक सियासत है जो दोनों देशों के लोगों के बीच खाई का काम कर रही उनका कहना था कि हरिद्वार आना उनके लिए एक सपने जैसा था जो गंगा स्नान के साथ पूरा हो गया।

साथ ही पाकिस्तान के सिंध प्रांत से पाकिस्तानी हिन्दुओं 40 सदस्यों का एक दल यहां पहुंचा है। उनके कई रिश्तेदार भारत में हैं। वे गुजरात में रह रहे अपने रिश्तेदार से मिले, जिससे उन्हें बेहद खुशी हुई। उनका कहना था कि पाकिस्तान में भी वे अपने सभी त्यौहारों को मिलजुलकर मनाते हैं। बताया कि भारत-पाकिस्तान बटंवारे के दौरान उनके पूर्वज वहीं रुक गए थे, जबकि उनके कई रिश्तेदार भारत चले गए।