पुलिस ने सुलझाई फाइनेंसर की हत्या की गुत्थी

मुजफ्फरनगर कोतवाली खतौली के गायब फाइनेंसर गौरव नागर के गायब होने की गुत्थी को पुलिस ने सुलझा लिया है। इंस्पेक्टर पीपी सिंह ने मीडिया से बातचीत कर इस पूरी वारदात की जानकारी दी है। उन्होंने बताया है कि फाइनेंसर गौरव नागर को अपने नौकर को पैसे देना काफी महंगा पड़ा है। उन्होंने बताया है कि लाखों में रकम बढ़ने पर नौकर परविंदर ने अपने दो साथियों के साथ मिलकर गौरव नागर की हत्या की साजिश रची।

crime

इंस्पेक्टर पीपी सिंह ने पत्रकार वार्ता में बताया की 21 जुलाई को नौकर परविंदर ने फाइनेंसर को बुग्गी दिलाने के बहाने घर से फोन कर बुलाया और अपने साथी अब्बास के साथ उसे पहले लूटा और लूटपाट के बाद आरोपियों ने फाइनेंसर गौरव नागर की हत्या कर दी। योजना के मुताबिक सराय गंगनहर पटरी के जंगल में इस घटना को अंजाम दिया।

हत्या के आरोपी अब्बास ने फाइनेंसर गौरव के सिर में गोली मार कर हत्त्या कर दी। जिसके बाद हत्त्यारों ने फाइनेंसर के शव व उसकी बाइक को गंगनहर में फेंक दिया। पुलिस के अनुसार मर्तक फाइनेंसर के शव की तलाश में गंग नहर में जुटे जवानों ने नहर से मृतक का शव बरामद कर लिया हैं। गिरफ्तार बदमाश अब्बास को जेल भेजा जा रहा है। हत्यारोपी की निशानदेही पर घटना में प्रयुक्त तमंचा बरामद कर लिया गया है।