फर्जी मुकदमा दर्ज कराने के आरोप में पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया

बलरामपुर। देश के सबसे बड़े सूबे को स्वच्छ बनाने के लिए आए दिन योगी सरकार सख्त कदम उठा रही है। लेकिन अब ऐसा लगने लग गया है कि सूबे को अपराध मुक्त बनाने में योगी सरकार को और भी ज्यादा मेहनत करने की जरूरत है। जनपद बलरामपुर मे फिल्मी अंदाज मे आपने ही लड़के का आपहरण कर फर्जी मुकदमा दर्ज कराने का सनसनीखेज मामला प्रकाश मे आया है । दरअसल कोतवाली देहात क्षेत्र के कस्बा हरिहरगंज मे एक बंगाली डॉक्टर ध्रुब विश्वास ने मकान व दुकान काफी दिनो से किराए पर ले रखा था।

मकान मालिक अपना मकान खाली कराना चाहता था जिसे वह खाली नहीं कर रहा था। इस मामले मे डॉक्टर ने एक हिस्ट्रीशीटर गणेश दत्त शुक्ला से मकान न खाली करने के लिए मदद ली। गणेश दत्त ने मकान मालिक पर दबाव बनाने के लिए कूटरचित तरीके से अपने लड़के को गायब कर मकान मालिक अरुण विश्वकर्मा व सहयोगियों पर कोतवाली देहात मे अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया। अगले ही दिन उसके चाल का जबाब देने के लिए मकान मालिक ने अपने छोटे भाई को गायब कर डॉक्टर व गणेश दत्त पर अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया। एक तरह का क्रॉस केस दर्ज होते ही पुलिस हरकत मे आई और 24 घंटे के अन्दर पूरे नाटक से पर्दा उठाते हुए दोनों बच्चों की बरामदगी की तथा दोनों पक्ष के तीन-तीन लोगों पर मुकदमा कायम कर तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया तथा तीन की तलाश कर रही है। पुलिस अधीक्षक प्रमोद कुमार ने कहा कि फर्जी मुकदमा दर्ज कराने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। फिलहाल पुलिस आगे की कार्रवाई में जुट गई है।