विश्व फोटोग्राफी दिवस: देखिए भारत के इतिहास में दर्ज होने वाली तस्वीरें

नई दिल्ली। भारत की महानता ने दुनिया को बहुत बदल दिया है। पिछले सौ सालों में भारत के एतिहासिक स्थलों में बहुत कुछ किया गया है। हमें यकीन है कि भारत ने मनोरंजन से लेकर राजनीति और राजनीति से लेकर वैज्ञानिक प्रगति के लिए और इतना ही नहीं खेल से लेकर अर्थशास्त्र तक काफी लंबा समय तय किया है। भारत के बदलती महानता में परिवर्तन क्रमिक है लेकिन प्रगतिशील भी है। आज राष्ट्र के पास एक आशा जनक भविष्य है। लेकिन इस गौरवशाली अतीत को फिर से देखने के लिए हम आपको साल पुराने समय में ले चलते हैं। जी हां हम ये पुराना समय आपको तस्वीरों के जरिए दिखाएंगे। यहां हमारे पास कुछ ऐसी तस्वीरें हैं जो आपको पुराने वक्त की याद दिलाएंगी। इन तस्वीरों ने पिछली शताब्दी में भारत की महिमा और महानता में योगदान करने वाले मील का पत्थर का काम किया है।

 

ये तस्वीर उस दौर की है जब रविद्रनाथ टेगोर ने नोबेल पुरूस्कार जीता था। उन्होंने 10 दिसंबर 1913 में ये पुरूस्कार जीता था। ये तस्वीर भारतीय इतिहास की यादगार तस्वीर है।

इस तस्वीर को देखते ही आप उस दौर में पहुंच जाएंगे जिस दौर में दादासाहेब फालके की पहली फिल्म राजा हरिश चंद्र रिलीज हुई थी। इस फिल्म के 3 मई 1913 में रिलीज किया गया था।

इस तस्वीर में आप देख सकते हैं कि सी. व्ही रमन भौतिक के लिए नोबेल पुरूस्कार लेते दुखाई दे रहे हैं।

इस तस्वीर को देखते तही आप उस दौर में पहुंच जाएंगे जब आजादी के बाद पंडित जवाहर लाल नेहरू ने देश को पहली बार अपने भाषण से संबोधित किया था। नेहरू ने ये भाषण 15 अगस्त 1947 को दिया था।

यो उस समय की तस्वीर है जब भारत के पहले राषट्रपति डॉ, राजेंद्र प्रसाद ने संविधान पर हस्ताक्षर किया था। ये तस्वीर 26 जनवरी 1950 की है।

इस तस्वीर से आप बॉलीवुड में पहुंच जाएंगे जब भारत को पहली भारतीय मिस वर्ल्ड मिली थी। रीता फरीया को 1966 में मिस वर्ल्ड के रूप में चुना गया था। रीता मिस वर्ल्ड जीतने वाली पहली भारतीय बनी।

भारतीय इतिहास में शामिल होने वाली ये तस्वीर बहुत ही अदभूद है। दरअसल ये तस्वीर आर्यभट्ट उपग्रह की है जिसका शुभारंभ 19 अप्रैल 1975 को हुआ था।

 

ये तस्वीर उस हस्ती की है जिन्होंने पहली बार भारत को ऑस्कर जीतने की गर्व महसूस कराया। भानु अथैया वो भारतीय महिला है जिन्होंने 11 अप्रैल 1983 को पहला ऑस्कर दिलाया।

ये तस्वीर भारतीय इतिहास की सबसे अलग है। इस तस्वीर के जरिए आप उस समय में चले जाएंगे जो आपको भारत में चलाए गए चिपको आंदोलन की याद दिलाएगी दरअसल ये तस्वीर 26 मार्च 1974 में चलाए गए चिपको आंदोलन की है।