यूपी की धक्केबाज पुलिस

हरदोई। सूबे में सत्ता पलट होने के साथ सीएम योगी एक्शन में आ गई है और लगातार अपराध पर लगाम लगाने के प्रयास किए जा रहे हैं। लेकिन अपराधियों के हौसले कम होने के बजाए उल्टा बढ़ते दिखाई दे रहे हैं और सूबे की सूबे की सरकार अपराध पर अंकुश लगाने में कामयाब नहीं हो पा रही है। वही सूबे की सरकार अपराधों पर जल्द ही नियंत्रण पा लेने की बात कह कर खुद का बचाव करती हुई दिखाई दे रही है।

सूबे में पुलिस किस तरह से अपराधियों को पकड़ेगी जब अपराधियों को पकड़ने वाली पुलिस खुद अपनी गाड़ियों में धक्का लगा रही है। मामला हरदोई का है जहां पुलिस की गाड़ी खराब हो रखी है जिन्हें स्टार्ट करने के लिए भी पुलिस को किसी और की सहायता लेनी पड़ती है। गाड़ी में पुलिसकर्मी तो बैठे हैं लेकिन वह सिर्फ बैठे ही हैं गाड़ी चल नहीं रही। पुलिस को गाड़ी स्टार्ट करने के लिए धक्का लगवाना पड़ रहा है। ऐसे में साफ हो जाता है कि सूबे में पुलिसकर्मी कितना अपराध पर लगाम लगाएंगे जब अपराधियों को पकड़ने वाली गाड़ियों में ही पुलिस धक्का लगवा रही है। इस तरह हाईटेक पुलिस व्यवस्था और डिजिटल इंडिया का सपना तो दूर की कौड़ी है यहां तो धक्केबाज पुलिस खुद ही फिट नहीं है |

यहां पुलिस अधीक्षक कार्यालय के बाहर बुधवार को थाना हरियावां के इंस्पेक्टर किसी काम से आये थे और जब वह वापस जाने लगे तो उनकी तो चार लोगों को बुला कर पहले उन्होंने गाड़ी में धक्का लगवाया उसके बाद थाने के पुलिस आगे बढ़ पाई। ऐसे में पुलिस पुलिस किस तरह अपराधियों को पकड़ेगी ये जरूर बड़ा सवाल बना हुआ है।