मेरठ में बुनकर समाज के लोगों ने किया जीएसटी का विरोध

मेरठ। देश में 30 जून आधी रात से जीएसटी लागू हो गया है। लेकिन कई कई राजनीतिक दलों को जीएसटी लागू होने से कई सारी दिक्कतें हैं। कई राजनीतिक दलों ने तो इसका बॉयकाट भी किया है। ऐसे में मेरठ में भी कई लोग जीएसटी का विरोध करने में लगे हुए हैं। मेरठ में लगातार जीएसटी का विरोध जारी है, जहा बुनकर समाज के लोग पिछले 3 दिनों से जीएसटी के खिलाफ मोर्चा खोले हुए हैं, और केंद्र सरकार को घेरने की कोशिश में लगे हुए हैं। तो वही मंगलवार को भी बुनकर समाज के हजारों लोगों ने जिलाधिकारी ऑफिस का घेराव किया और प्रदर्शन करते हुए अपना ज्ञापन पीएम नरेंद्र मोदी  के नाम एडीएम को सौंपा।

मेरठ में लगातार बुनकर समाज के लोग जीएसटी का विरोध कर रहे हैं। मंगलवार को भी बुनकर समाज का जीएसटी के प्रति विरोध और भी ज्यादा कड़ा हो गया। मंगलवार को हजारों की तादाद में लोगों ने डीएम के यहां पहुंचकर हंगामा करना शुरू कर दिया। लोग जिलाधिकारी का दफ्तर घेरने लगे। ऐसे में यहां लोगों ने खूब हंगामा काटा। लोगों ने यहां पहुंचकर केंद्र सरकार पर बुनकर समाज के दमन का आरोप लगते हुए अपना ज्ञापन प्रशासनिक अधिकारी को सौंपा। इस दौरान समाजवादी पार्टी के नेताओं ने भी भी बुनकर समाज का समर्थन किया और प्रदर्शन में शामिल होकर बुनकर समाज के हित में मांग की।

आपको बता दें कि जीएसटी लागु होने के बाद से ही बुनकर समाज के कारोबार पर पांच प्रतिशत का टैक्स लगा है। जिससे बुनकर समाज के लोग काफी आहात हैं। लोगों को जीएसटी के कारण भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। बुनकर समाज के लोगों का कहना है, कि उनका कारोबार पहले ही मंदी की मार झेल रहा है। लोगों का कहना है कि जीएसटी लगाने से उनके ऊपर दोहरी मार पड़ रही है। हालांकि सपा और बुनकर समाज के लोगों ने अपना आंदोलन आगे भी जारी रखने की चेतावनी दी है। लेकिन अब देखना होगा कि बुनकर समाज का ये आंदोलन आगे क्या कर पाएगा।