वादे पूरे ना करने से बौखलाए ग्रामीण, फूंका विधायक का पुतला

मैनपुरी। सपा में बाप-बेटे की लड़ाई से सभी पार्टी के नेता और कार्यकर्ता परेशान है। सपा में उठापटक के बीच एक बार फिर से मैनपुरी की सियासत गरमा गई है। अभी तक मुलायम के खेमे से जारी प्रत्याशियों की लिस्ट जो लोग प्रत्याशी बनाये गए थे अभी तक उनके पुतले व खिलाफ में काफी प्रदर्शन हुआ था,लेकिन ऐसा पहली बार हुआ जब किसी विधान सभा में अखिलेश के प्रत्याशी का पुतला फूंका गया।

दरअसल मैनपुरी की विधान सभा भोगांव के देवीपुर ग्राम पंचायत के दर्जनों ग्रामीणों ने एकत्रित होकर मौजूदा विधायक आलोक शाक्य का पुतला फूंक जमकर नारेबाजी की और काले झन्डे लगाये,ग्रामीणों का आरोप है कि विधायक ने कई बार गांव में बिजली,पानी,सड़क व्यवस्था को दुरुस्त कराने का आश्वाशन दिया,लेकिन उनका आश्वाशन ढांक के तीन पात निकला।

ग्रामीणों का कहना है कि विधायक ने उनके साथ झूठ व छल करके वोट पा लिए लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। ग्रामीणों का कहना है कि वो सभी मिलकर एक रणनीति तैयार करेंगे जिसमें वो आगामी विधानसभा चुनावों का बहिष्कार करेंगे।

गौरतलब हो कि मुलायम की लिस्ट में अलोक शाक्य का पत्ता कट गया था लेकिन अखिलेश की लिस्ट में उन्हें प्रत्याशी बनाया गया है। वो दस साल से विधायक हैं और इसी सरकार में प्राधविक शिक्षा मंत्री भी बनाये गए थे लेकिन अपनी जनता के भरोसे को खोने के चलते उन्हें मंत्रीपद से हाथ धोने पड़े थे। इस से पूर्व इनके पिता भी इसी विधानसभा से प्रत्याशी थे। इतने समय तक विधायक रहने के बाद अपने क्षेत्र में तनिक भी विकास न करा पाना उनके काम और सपा सरकार के शासन पर सवाल खड़ा कर रहा है।

शाकिर अनवर, संवाददाता