शहीद को श्रद्धांजलि देने के लिए उमड़ा लोगों का हुजूम

नैनीताल। जम्मू-कश्मीर में आतंकी मुठभेड़ में उत्तराखंड का लाल शहीद हो गया। शहीद होने से पहले पैरा कमांडो ने एक आतंकी को मार गिराया था। गुरूवार को शहीद का पार्थिव शरीर वायु सेना के हेलीकॉप्टर से हल्द्वानी पहुंचा। वहां से सेना के हेलीकॉप्टर से 11 बजे कोटाबाग पंहुचा। शहीद के आखिरी दर्शन के लिए जनसैलाब उमड़ पड़ा।

नैनीताल जिले के कोटाबाग ब्लॉक के ग्राम पतलिया निवासी धर्मेंद्र कुमार साह (25 वर्ष) 29 पैरा एसएफ (स्पेशल फोर्स) में कमांडो थे। वर्तमान में वह 31 आरआर (पैरा एसएफ) में जम्मू-कश्मीर में तैनात थे। मंगलवार को बांदीपोरा जिले के हाजिन क्षेत्र में आतंकियों से लोहा लेते समय धर्मेंद्र शहीद हो गए। शहीद होने से पहले धर्मेंद्र ने एक आतंकी को मार गिराया।

स्कूली बच्चो से लेकर क्षेत्र के युवा, महिलाएं और बुजुर्ग मैदान में पहुंचे। इस दौरान हजारों लोगों की मौजूदगी में भारत माता की जय, धर्मेंद्र तेरा यह बलिदान याद रखेगा हिन्दुस्तान के नारों से क्षेत्र गुंजायमान हो गया। सेना के फूल मालाओं से सुसज्जित वाहन पर शहीद का पार्थिव शरीर गांव की ओर ले जाया गया। लोगों की आंखें नम थीं। घर में पिता मोहन लाल, माता सावित्री देवी, भाई पवन व दीपक इंतजार कर रहे थे। मां सावित्री दिल की मरीज हैं। आसपास की महिलाएं व रिश्तेदार ढांढस बंधा रहे थे।