इंजीनियर की हत्या के बाद भारतीय-अमरीकियों में दहशत

कैंसस। कैंसस शहर में भारतीय मूल के एक इंजीनियर की हत्या और एक अन्य पर जानलेबा हमला के बाद अमेरिका के जिन इलाकों में भारतीय समुदाय के लोगों की जनसंख्या तेजी से बढ़ रही है वहां भारतीय मूल के अमेरिकियों में दहशत है। यह जानकारी शनिवार को मीडिया रिपोर्ट से मिली। विदित हो कि बुधवार शाम गोली मारकर की गई हत्या के लिए पूर्व नौ सैनिक आदम पुरिन्टन (51) पर पूर्वनियोजित हत्या का आरोप लगाया गया है।

हमले के समय पास से गुजरने वाले एक चश्मदीद ने स्थानीय अखबार कैंसस स्टार से कहा कि गोली चलाने से पहले पुरिन्टन ने चिल्लाकर कहा, “अमेरिका से बाहर चले जाओ। इस घटना के बाद कैंसस शहर में रहने वाले अनेक भारतीय-अमेरिकियों ने कहा कि उन्हें उनकी सुरक्षा को लेकर सोचने को मजबूर होना पड़ रहा है। एक अनुमान के अनुसार, कैंसस शहर में 25 से 30 हजार भारतीय मूल के लोग रहते हैं। एक नृत्य कंपनी चलाने वाली समर्पिता बाजपेयी (45) ने कहा, “मैं मुख्य रूप से चकित हूं, क्योंकि यहां मेरा घर है।” उन्होंने आगे कहा कि करीब 20 साल से कैंसस शहर में रहने के दौरान पहली बार वह देर रात बाहर रहने से परहेज करती हैं।

अमेरिका में सामाजिक और राजनीतिक माहौल के साथ इस घटना ने अल्पसंख्यक अमेरिकियों को असहज कर दिया है। उधर इस महीने एक रिपोर्ट जारी कर दक्षिणी गरीबी कानून केंद्र ने कहा कि साल 2016 में कट्टरवादियों की संख्या में वृद्धि हुई, क्योंकि राष्ट्रपति पद के लिए ट्रंप की उम्मीदवारी ने उनमें नई उर्जा का संचार कर दिया।कैंसस शहर में भारतीय एसोसिएशन से जुड़े और ओवरलैंड पार्क में एक आभूषण की दुकान चलाने वाले अक्षय आनंद (34) ने कहा कि वह उन इलाकों में जाने से बचेंगे, जहां खतरा है। वह घटना स्थल से कुछ ही दूरी पर रहते हैं।