पंचायत ने रेप पीड़िता को न्याय के बदले सुनाया, तुगलकी फरमान

बिहार। पटना के पूर्णिंया में दुष्कर्म की घटना प्रकाश में आई है, जहां पर एक युवक ने अपने ही गांव की एक 11 साल की नाबालिक लड़की के साथ रेप किया । जब पीड़ित पक्ष के लोग इस घटना की रिपोर्ट  करने  पुलिस पास जा रहे थे  , तभी वहां के मुखिया नें पंचायत बैठाई और कहा कि, किसी को भी पुलिस के पास जाने की कोई जरूरत नहीं है। हालांकि पंचायत मे यह फैसला हुआ कि 7 साल बाद जब लड़की बालिक हो जाएगी तब उसकी शादी आरोपी लड़के के साथ कर दी जाएगी। पंचायत में यह फैसला लिया गया की पंचायत का फैसला आरोपी को स्वीकार करना होगा।

पंचायत का फैसला पीड़िता के परिजनों ने स्वीकार नहीं किया और परिजनों ने इस फैसले का विरोध किया। परिजनों ने बताया कि यह घटना तब हुई है जब वह अपने पड़ोस में लकड़ियां बीनने के लिए गई हुई थी। लकड़ियां बीनने जब परिजन घर से निकले थे तब नाबालिग लड़की घर में अकेली थी। जानकारी के अनुसार पीड़िता कक्षा 6 में पढ़ती है। जोकि घर की छत पर कपड़े सुखाने के लिए गई हुई थी। तभी आरोपी युवक घर में जबरजस्ती  घुस गया । और आरोपी पीड़िता को जान से मारने की धमकी देते  उसके साथ दुषकर्म जैसी घिनौनी वारदात को अंजाम दिया जिसके बाद आरोपी ने उसे किसी के भी सामने अपना मुंह ना खोलने की धमकी भी दे डाली।

घटना के तुरंत बाद पीड़िता के परिजन घर में वापस आ गए और इस बीच आरोपी परिजनों को धक्का देकर मौके से फरार हो गया। वही पीड़िता के परिजन अपनी गुहार लेकर पुलिस के पास गए। परिजनों का कहना है कि वह किसी भी सूरत में पंचायत का फैसला मानने को तैयार नहीं है। फिलहाल पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

हालांकि पंचायत करने वाले भी गांव के ही कुछ दबंग  हैं जिनमे चंद्र मोहन डीलर ,रामदेव यादव, दयानन्द यादव, सत्यनरायण यादव , टीकालाल बोसाक शामिल थे । और पंचायत नें तो स्टाम्प पेपर तक पर लिखवाकर आश्वासन दिया कि सात साल बाद आरोपी शादी कर लेगा । हालांकि एसपी निशांत तिवारी ने परिजनों को न्याय का भरोसा दिया। और बताया कि पंचायत करने वालों के ऊपर भी सख्त कार्यवाई होगी ।