मनमोहन सिंह पर बनने वाली फिल्म में सेंसर का पेंच

मुंबई। सेंसर बोर्ड के चेयरमैन पहलाज निहलानी ने स्पष्ट किया है कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की जिंदगी पर बनने जा रही प्रस्तावित फिल्म को पूर्व प्रधानमंत्री के अलावा कांग्रेस पार्टी की अध्यक्ष सोनिया गांधी से भी नो आब्जेक्शन सार्टिफिकेट लेना होगा।

यूपीए सरकार के कार्यकाल में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के मीडिया सलाहकार रहे संजय बारु की किताब ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ पर ये फिल्म बनने जा रही है, जिसमें मनमोहन सिंह की भूमिका के लिए अनुपम खेर का नाम तय हुआ है।

फिल्म के निर्माताओं को पूर्व पीएम मनमोहन सिंह और काग्रेंस अध्यक्ष सोनिया गांधी से सेंसर सर्टिफिकेट मिलने से पहले किरदार को पर्दे पर उतारते समय उन सभी गाइडलाइंस को ध्यान में रखना होगा जो पहले से बनी हुई हैं। आपकों बता दे कि द एक्सिटेंडल प्राइम मीनिस्टर का स्क्रीन प्ले हंसल मेहता लिख रहे हैं, जबकि निर्देशन की कमान विजय रत्नाकर गुट्टे के हाथ में है।

पहलाज निहलानी ने सेंसर बोर्ड के बने हुए नियमों का हवाला देते हुए कहा है कि इस फिल्म को रिलीज होने से पहले मनमोहन सिंह के साथ सोनिया गांधी की ओर से भी एनओसी लेना होगा, क्योंकि इस किताब और फिल्म में उनके बारे में बात की गई है।

किसी जीवित व्यक्ति के बारे में कोई फिल्म बने, उससे एनओसी जरूर लेना चाहिए। कुछ दिनों पहले प्रधानमंत्री मोदी के जीवन पर भी फिल्म बनने की बात थी, तो पहलाज निहलानी ने इसके निर्माताओं को भी प्रधानमंत्री कार्यालय से एनओसी लेने को कहा।