पद्मावती विरोधः भंसाली के पुतले की निकाली गई शव यात्रा, बीजेपी मंत्री अम्मू ने दिया पद से इस्तीफा

नई दिल्ली। फिल्म ‘पद्मावती’ पर विरोध थमने का नाम ही नही ले रहा। इस फिल्म पर रोक लगाने की याचिका को सुप्रीम कोर्ट तीन बार खारिज कर चुकी है। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने फिल्म को लेकर चल रही बयानबाजी पर फटकार भी लगाई। इसके बावजुद भी कुछ लोगों ने संजय लीला भंसाली के पुतले की शव यात्रा निकाली। इस फिल्म के विरोध में हरियाणा के बीजेपी प्रमुख ने सूरजपाल अम्मू ने अपने पद से इस्तीफा भी दे दिया। हालांकि उनके इस्तीफे को मंजूर नहीं किया गया है। इस फिल्म के विरोध में अम्मू ने भंसाली के सिर काटने पर 10 करोड़ देने का ऐलान किया था।

कई जगह पर अभी भी संजय लीला भंसाली और पद्मावती के पोस्टर जलाए जा रहें हैं। इस फिल्म पर इतिहास से छेड़-छाड़ का आरोप लगाया गया है। इस फिल्म पर आरोप है कि रानी पद्मावती और खिलजी के चरित्र को गलत ढंग से पेश किया गया है। फिल्म में खिलजी और पद्मावती के प्रेम प्रसंग पर सवाल उठाया गया है। फिल्म में खिलजी का किरदार निभा रहे रणवीर सिंह को हीरो की तरह दिखाने का भी आरोप लगा है।

 

गौरतलब है कि करणी सेना द्वारा किए गए इस फिल्म के विरोध को राजनीति की हवा लग गई। इस फिल्म पर मंत्री, सांसदों व मुख्यमंत्रियों के बयान आने लगे। इस बयानबाजी के चलते देश में फिल्म के खिलाफ माहौल बन गया।

करणी सेना ले शूटिंग के वक्त ही जयपुर में तोड़-फोड़ की थी और साथ ही संजय लीला भंसाली के साथ भी हाथा-पाई हुई थी। भंसाली और फिल्म की कास्ट अभी भी इस बात की अपील कर रहें हैं कि फिल्म में कुछ भी आपत्तीजनक नहीं दिखाया गया है। फिलहाल फिल्म के भारी विरोध के चलते इसकी रिलीज डेट आगे बढ़ा दी गई है। बता दें की ये फिल्म 1 दिसंबर को रिलीज होने वाली थी।