आयोगों में रिक्त पदों पर विपक्ष का हंगामा, कार्यवाही दो बजे तक स्थगित

नई दिल्ली। राज्यसभा में राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग सहित विभिन्न आयोगों में सदस्यों के पदों के खाली को लेकर विपक्ष ने हंगामा किया इसी वजह से प्रश्नकाल नहीं हो सका। साथ ही राज्यसभा की कार्यवाही दो बजे तक स्थगित कर दी गई है। कांग्रेस के नरेंद्र बुढ़ानिया ने शून्यकाल के मुद्दे के तहत अल्पसंख्यक आयोग में अध्यक्ष तथा सभी सदस्यों के पदों के खाली रहने का मुद्दा उठाया। इसके बाद विपक्ष ने हंगामा शुरू कर दिया।

बुढ़ानिया ने राज्यसभा में कहा, ‘अल्पसंख्यक आयोग को संवैधानिक दर्जा प्राप्त है लेकिन आयोग के अध्यक्ष तथा सदस्यों के सभी पद खाली हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि सोची संभावित रणनीति के तहत संवैधानिक संस्थाओं को कमजोर किया जा रहा है जो लोकतंत्र के लिए खतरनाक है।‘
उन्होंने केंद्र पर निशाना साधते हुए कहा कि आयोग में एक भी सदस्य के नहीं होने से शंका पैदा होती है और ऐसा लगता है कि आयोग को तोड़ने का इरादा है। नरेंद्र बुढ़ानिया ने सवाल किया कि इस कदम से भाजपा सरकार कोई संदेश तो नहीं देना चाहती है।

वहीं इस मसले पर केंद्रीय अल्पसंख्यक मंत्री मुख़्तार अब्बास नकवी ने राज्य सभा में कहा है कि अल्पसंख्यक आयोग में जैन समुदाय के लोगों को भी उचित प्रतिनिधित्व दिया जाएगा। मंत्रिमंडल में पास बिल को अब संसद में पास कराया जाएगा। सरकार ने यह भी कहा कि वह इस मुद्दे पर चर्चा के लिए तैयार है। जैन समुदाय अल्पसंख्यक का दर्जा पाने वाला छठा समुदाय है। मुस्लिम, ईसाई, सिख, बौद्ध और पारसी समुदायों को पहले से ही अल्पसंख्यक का दर्जा मिला हुआ है।