जमीनी विवाद में एक किसान की मौत : मेरठ

उत्तर प्रदेश। मेरठ के खादर में जमीनी विवाद को लेकर खुनी खेल लगातार जारी है, रात इस खूनी रंजिश ने एक युवक की जान ले ली, जिसके बाद लोगो ने थाने पर जमकर हंगामा काटा.. गुसाई भीड़ को देख थाने से पुलिस सहित थाना इंचार्ज भी भाग खड़े हुए, रात भर चला हंगामा सुबह जाकर थोड़ा शांत हुआ। मेरठ के किठौर क्षेत्र के खादर में गांव चांदपुर में जमीनी विवाद में देर रात्रि एक किसान के सर में गोली मार कर ह्त्या कर दी गई, मामला दो सम्प्रदाय का होने के कारण इलाके में तनाव व्याप्त हो गया , वही गुसाई भीड़ ने थाने को घेर लिया और मेरठ गढ़ मार्ग जाम कर दिया भारी भीड़ और लोगे के गुस्से को देख थाना अध्यक्ष थाने से मय फोर्स के भाग खड़े हुए बाद में भारी फोर्स पहुंचाने पर स्थिति को कंट्रोल किया गया।

आपको बता दें की मेरठ के थाना किठौर के ललियाना के पूर्व प्रधान शाहनवाज का मंजीत से खादर में जमीन को लेकर विवाद चल रहा है, कुछ दिन पहले किठौर पुलिस ने शानवाज को जेल भेज दिया था शाहनवाज के जेल जाने के बाद दोनों ही सम्प्रदाय के लोगो में रंजिश बढ़ गयी शानवाज के जेल जाने के बाद उनके पक्ष के सदाकत का दूसरे पक्ष के हरपाल और मंजीत व् सतनाम के बिच कहा सुनी हो गयी जो बाद में मारपीट में तब्दील हो गयी ये चार दिन से चल रहा था और इन्ही चार दिन में कईं बार इन् लोगो मे आपस में फायरिंग भी हो गयी लेकिन पुलिस ने मामले को गंभीरता से नही लिया और देर रात्रि से एक की मोत के बाद हंगामा हो गया |

वही जनता का आरोप है की शिवसदन पर बीती रात कई घण्टे तक दर्जनों लोगों ने हमला बोलकर जमकर फायरिंग की। इस फायरिंग से पूरी रात खादर थर्राया ओर दहशत फैल गई। शिवसदन के सेवादार रातभर किठौर पुलिस व डायल 100 को अवगत कराते रहे परन्तु किठौर पुलिस ने पहुँचना गवारा नही समझा। शिवसदन के सेवादार बाबा टहल सिंह का कहना है कि एसडीएम दुआरा 36 एकड़ भूमि को विवाद के चलते कुर्क कर ली थी। परन्तु किठौर पुलिस भूमाफियाओं मंजीत व हरपाल से सांठगांठ कर विवादित भूमि पर भूमि कुर्क होने पर पानी चलवाया जा रहा है। किठौर एसओ शिवसदन के लोगों को धमकी देकर भगाना चाहते हैं और भूमाफियाओं को सांठगांठ कर उनको सरक्षंण दिए हुए हैं। बीती रात एसओ किठौर की शह पर शिवसदन पर जमकर कई घण्टे फायरिंग कराई ओर शिवसदन पर हमला कराया। दो दिन पहले भी थाना पुलिस व एसओ किठौर शिवसदन व डेरे पर रात को महिलाओ के साथ गाली गलौच व अभद्र व्यवहार करके डेरा व सदन छोड़ने की धमकी दे गए। जिससे शिव सदन के लोगो मे भारी रोष है औऱ इनका कहना है कि महिलाए योगी सरकार में खुद को असुरक्षित महूसस कर रही है औऱ एसओ किठौर कभी भी उनकी हत्या करवा सकते हैं।

यही नहीं गुस्साई भीड़ का ये जहा एसओ किठौर व दरोगा वीरेंद्र कुमार की भूमाफ़ियाओ से मोटी रकम वसूलकर हुई सांठगांठ का आरोप लगाया | वही एसओ की शह पर 4 दिनों से सदन पर गोलीबारी कराने का नतीजा रविवार की शाम ईद की पूर्व संध्या पर करीब 7 बजे घर लौट रहे एक किसान सदाकत ललियांना को गोलियों से छलनी कर भूमाफ़ियाओ ने मोत के घाट उतार दिया। और पुलिस मौके पर मुक़दर्श बनी रही। उधर मोत होते ही एसओ किठौर उल्टे पैर थाना भागे। म्रतक के गांव ललियाना में पता चलते ही सेकड़ो लोगों ने शव गाड़ी में रखकर जाम लगा दिया उधर थाना में एसओ ने शव को मेडिकल ले जाने के लिए कहा तो लोगो का आक्रोश फुट पड़ा। और सीधे एसओ पर भूमाफ़ियाओ से साठ गांठ कर हत्या करवाने का आरोप लगाया। लोगो मे आक्रोश बढ़ता देख एसओ व दरोगा चुपचाप थाना से भाग खडे। एसपी देहात व सीओ किठौर ने स्थिती सम्भाली। पीड़ित परिवार के लोगो को संभाला परन्तु सेकड़ो लोगो ने पुलिस पर गम्भीर आरोप लगाए और भूमाफ़ियाओ से मिलीभगर की आप लगाया। प
4 घण्टे के बाद एसओ ओमप्रकाश को लाइन हाजिर कर ने की घोषणा के बाद जाम खोल दिया गया। जब इस सम्बन्ध में पुलिस अधिकारियो से पक्ष जनन चाह तो उन्होंने कुछ भी कहने से इंकार कर दिया वही आक्रोशित भीड़ ने मिडिया तक के कैमरे तक नहीं चलने दिए |