रक्षाबंधन पर बहन को उपहार में शौचालय देने वाले भाई होंगे सम्मानित

लखनऊ। पंचायती राज विभाग ने स्वच्छ भारत मिशन को भाई-बहन के पवित्र पर्व रक्षा बंधन से जोड़ते हुए पहल की है। विभाग ने भाइयों का स्वाभिमान जगाते हुए उन्हें शौचालय बनाकर बहन को गिफ्ट करने के लिए प्रेरित किया है। ऐसा करने वाले भाइयों को पन्द्रह अगस्त को सम्मानित किया जाएगा। हालांकि शौचालय बनाने का बजट पंचायती राज विभाग उपलब्ध कराएगा। इसके लिए सात अगस्त से पहले पंचायती राज विभाग के दफ्तर और ब्लॉक कार्यालय से फार्म भरकर आवेदन करना होगा।

rakshabandhan, brothers, gift, sister, honored, toilets
Swacch Bharat Mission Public toilet

स्वच्छ भारत मिशन के जिला समन्वयक नंद किशोर दीक्षित के मुताबिक पूर्व में यह योजना बनारस, बागपत आदि जिलों में चल रही थी, लेकिन अब यह योजना खीरी जिले में भी लागू कर दी गई है। योजना का नाम ‘रक्षाबंधन के त्योहार पर सबसे न्यारा भाई कौन’ रखा गया है। ऐसे भाइयों को 15 अगस्त के मौके पर सम्मानित किया जाएगा।

दीक्षित ने बताया कि उक्त समारोह में ब्लॉक एवं जिला स्तर पर प्राप्त सत्यापित आवेदनों में से लाटरी पद्वति के द्वारा प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय पुरस्कार क्रमशः 10 हजार, आठ हजार और छह हजार के लिए भाइयों का चयन किया जाएगा तथा सभी आवेदनों के भाइयों को जिला स्वच्छता समिति के अध्यक्ष व डीएम के द्वारा प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया जाएगा।
समन्वयक के अनुसार, वर्ष 2017-18 में भारत सरकार से जिले में एक लाख शौचालय बनाने का लक्ष्य दिया गया है। रक्षाबंधन में बहनों को शौचालय गिफ्ट करने वाले भाइयों को सम्मानित करने की योजना से शौचालय निर्माण में तेजी आएगी। युवा रक्षाबंधन के मौके को हर हाल भुनाना चाहेंगे। इसके लिए पंचायतीराज विभाग उनकी मदद भी करेगा और सम्मानित भी।

डीपीआरओ चंद्रिका प्रसाद के मुताबिक, पंचायतीराज विभाग की प्राथमिकता है कि जिले को शौच मुक्त बनाया जाए। शौचालय को त्योहारों में गिफ्ट करने की योजना से जोड़ने की योजना से लोगों की उत्सुकता और बढ़ेगी जिससे स्वच्छ भारत मिशन अभियान को गति मिलेगी। उन्होंने बताया कि लोगों में स्वच्छता का भाव जगाने के लिए विभाग की ओर से उठाया गया यह कदम खुले में शौच से मुक्ति के लिए मील का पत्थर साबित हो सकता है। इससे न सिर्फ खुले में शौच की समस्या से छुटकारा पाने में सफलता मिलेगी, बल्कि आमजनों के स्वास्थ्य से जुड़ी कई बड़ी समस्याओं को भी काबू में लाया जा सकता है।