सड़क हादसे में वृद्धा की मौत के बाद मचा बवाल

मेरठ। सड़क हादसे में वृद्धा की मौत के बाद गुस्साए ग्रामीणों ने मौके पर पहुंची पुलिस और आरोपी ट्रेक्टर चालक पर पथराव कर दिया। जिसमें ट्रेक्टर चालक घायल हो गया और पुलिस की जीप भी क्षतिग्रस्त हो गई। मामल की जानकारी मिलने पर एसडीएम मवाना सहित पांच थानों की फोर्स मौके पर पहुंच गई। परिजन पोस्टमार्टम न कराने की मांग पर अड़ गए। बाद में पुलिस ने काफी देर चले हंगामे के बाद शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा।

गोविंदपुर निवासी पिंटू अपनी मां सुखबीरी और चाची धनबीरी खेत से लेकर बाइक से गांव मे वापस लौट रहा था। इसी दौरान भगवानपुर बांगड़ के मोड़ पर एक ट्रेक्टर अपने पीछे पानी का टैंकर बांधकर जा रहा था। बताया जाता है कि तेजगति मोड़ पर ट्रेक्टर से टकराकर पलट गई और बाइक सवार तीनों लोग नीचे गिर गए।

इसी दौरान ट्रेक्टर का पिछला पहिया सुखबीरी के सिर से उतर गया और उसकी मौके पर ही मौत हो गई। यह नजारा देख ग्रामीणों ने दौड़कर ट्रेक्टर चालक को दबोच लिया और डायल 100 पर घटना की जानकारी दी। वहीं घटना की खबर आग की तरह पूरे गांव में फैल गई और मौके पर सैकड़ो ग्रामीणों की भीड़ जुट गई।

इसी दौरान पुलिस मौके पर पहुंची और जैसे ही आरोपी ट्रेक्टर चालक को जीप में बिठाने लगी ग्रामीण और परिजन भड़क गए और उन्होंने पुलिस की जीप पर पथराव शुरू कर दिया। ग्रामीणों का गुस्सा देख पुलिस ने आरोपी चालक को आनन-फानन में जीप में बिठाते हुए जीप दौड़ा दी, लेकिन इसके बावजूद पथराव में जहां आरोपी चालक घायल हो गया, वहीं पुलिस की जीप भी क्षतिग्रस्त हो गई। घटना की जानकारी मिलते ही किठौर, मुंडाली, किला परीक्षितगढ़ और अन्य दो थानों की फोर्स सहित एसडीएम मवाना अरविंद कुमार मौके पर पहुंच गए।

ग्रामीणों और परिजनों ने वृद्धा के शव को सड़क पर रखकर जाम लगाते हुए पोस्टमार्टम कराने से इंकार कर दिया। वहीं पुलिस भी शव का पोस्टमार्टम कराने और पुलिस पर पथराव करने वालों के खिलाफ कार्यवाही की बात पर अड़ गई। काफी देर चले हंगामे के बाद पुलिस ने जबरन शव को कब्जे में लेते हुए पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

 शानू भारती, संवाददाता