बस्तर रेलमार्ग से जुड़ेगा ओडिशा का नवरंगपुर

जगदलपुर। रेलमंत्री सुरेश प्रभु व ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक की मौजूदगी में भुवनेश्वर में पीपीपी (पावर पाइंट प्रेजेंटेशन) के माध्यम से केके लाइन पर जयपुर से नवरंगपुर तक 36 किमी पटरी बिछाने का कार्य को हरी झण्डी मिली। काम जल्द ही शुरू होगा। साढ़े सात सौ करोड़ के इस प्रोजेक्ट को तीन साल में पूरा किया जाना है। मालूम हो कि इस लाइन के बिछने का फायदा बस्तर को भी मिलेगा।

बता दें कि बस्तर ओडिशा के नवरंगपुर जिले से ट्रेन लाइन के माध्यम से जुड़ जाएगा। जानकार बता रहे है कि इस लाइन के बिछने के बाद नवरंगपुर से जुनागढ़ के बीच की दूरी भी खत्म होगी। पहले ही कालाहांडी जिला मुख्यालय से जुनागढ़ 30 किमी की लाइन बिछ चुकी है और रेल परिवहन सुचारू है। आने वाले समय में इस लाइन को बिछाने का भी प्रस्ताव है। ऐसा होने से जुनागढ़ तक बस्तर ट्रेन के माध्यम से जुड़ेगा और यहां से देश भर के लिए रास्ते खुलेंगे। इधर बस्तर को रेल संसाधन से जोडऩे के लिए जहां केके लाइन में विस्तार कार्य हो रहा है वहीं दूसरी तरफ दल्ली राजहरा से जगदलपुर रेल लाइन का काम भी तेजी पर है।

साथ ही सर्वे उपरांत जमीन अधिग्रहण का कार्य शुरू होगा और फिर लाइन बिछाई जाएगी। मालूम हो कि जिस इलाके में सर्वे हुआ है उसमें माओवाद प्रभावित इलाके थे। यहां पर फारेस्ट लेंड होने से फारेस्ट क्लियरेंस को लेकर रोडा आ रहा है। इसे दूर करने के लिए कलेक्टरों को विशेष निर्देश जारी किया गया है। अब कोण्डगांव से जगदलपुर तक के लिए सर्वे किया जाना है। दूसरी ओर दल्ली से रावघाट तक के सर्वे और जमीन अधिग्रहण की कार्रवाई तेजी पर है। सभी जिलों के कलेक्टरों को इस लाइन के काम में तेजी लाने के लिए निर्देशित किया गया है। यह प्रोजेक्ट प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट में शामिल है।

वहीं रावघाट से जगदलपुर 141 किमी रेल लाइन बिछाने का कार्य बस्तर रेलवे प्राइवेट लिमी को दिया गया है। बताया जा रहा है कि कार्य प्रगति पर है। पहले चरण के कार्य में जगदलपुर से कोण्डागांव तक 70 किमी लाइन का कार्य होगा। दूसरे चरण का कार्य दिसंबर 2018 में शुरू किया जाना है। माना जा रहा है कि नगरनार इस्पात संयंत्र के लोकार्पण के लिए देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का बस्तर प्रवास इस साल दिसम्बर माह में होने की बात सामने आ रही है। ऐसा होता है तो वे इसी दौरान रावघाट रेललाइन का भूमिपूजन भी करेंगे।