सेना के पास गोला-बारूद की कमी नहीं, सेना की तैयारियों पर कोई संदेह नहीं संसद में बोले जेटली

नई दिल्ली। डोकलाम विवाद पर चीन ने भारत को फिर धमकी देते हुए कहा कि चीन के हथियारों को कम आंकना गलत है। वक्त आने पर ये हथियार गरजेंगे भी और बरसेंगे भी। चीन की ओर से डोकलाम विवाद पर आये दिन एक के बाद एक विवादित बयान दिया जाता है। इस जुबानी जंग में भारत की ओर से चीन को लगातार माकूल जवाब दिया जा रहा है। डोकलाम पर चीन बार-बार भारत को सेना हटाने के लिए धमकी दे रहा है। चीन ने भारत को युद्ध के लिए तैयार रहने तक की धमकी दे डाली है।

ऐसे में देश की लोकसभा में कैग की रिपोर्ट का हवाला देते हुए विपक्ष की ओर से सरकार से कई सवाल पूछ गये हैं। कैग की रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि मौजूदा वक्त में सेना के पास बस 20 दिनों तक युद्ध में लड़ने के लिए गोला-बारूद बचा है। इसी पर जब लोकसभा में रक्षामंत्री अरूण जेटली से सवाल हुआ तो जेटली ने जवाब देते हुए साफ किया कि हमारी सेना के पर किसी भी हालत से निपटने के लिए पर्याप्त क्षमता है। सेना के पास हर हालात से निपटने के लिए पर्याप्त गोला-बारूद मौजूद है।

कैग की रिपोर्ट में उल्लेख हुए तथ्य को लेकर रक्षामंत्री ने कहा कि ये एक समय विशेष की स्थिति का उल्लेख है। वर्तमान में इस बारे में महत्वपूर्ण कदम उठाए जा चुके हैं। सेना के पास किसी भी हथियार या गोला-बारूद की कोई कमी नहीं है। हमारी सेना की सैन्य तैयारियों को लेकर संदेह नहीं किया जा सकता है। हांलाकि सांसद ने ये सवाल चीन की धमकी के बाद किया था। लेकिन अपने पूरे जवाब में रक्षामंत्री ने चीन और डोकलाम पर कोई जवाब नहीं दिया है।