एनजीटी का आदेश बना लोगाें के लिए चिंता का सबब

मथुरा। एनजीटी के ग्रीन बेल्ट खाली कराने के आदेश के बाद जिला प्रशाशन का रुख सख्त दिखाई दे रहा है वहीं स्थानीय लोगों में घरों से बेघर होंने का डर बना हुआ है।आपको बता दें की गोवर्धन परिक्रमा में गिर्राज पर्वत के पास बसी आवादी को खलाने का निर्देश जिला प्रशाशन को दिया गया है अगर ऐसा होता है तो लाखों लोग अपने घरों से बेघर हो जाएंगे।

एनजीटी के ग्रीन बेल्ट खाली कराने के आदेश के बाद लोगो में डर का माहौल बना हुआ है।आपको बतादे की गोवर्धन की परिक्रमा 21किलोमीटर में फैली हुई है जिसमे गिर्राज पर्वत और परिक्रमा के बीच बसी आवादी को अबैध माना जारहा है जिसके कारण सभी मकानों को हटाने के निर्देश दिए गए है।एनजीटी के अनुसार परिक्रमा मार्ग से गिर्राज पर्वत स्पष्ट दिखाई देना चाहिए जिसके बिच आने बाले सभी अतिक्रमण को हटाया जाए।

गोवर्धन पर्वत के 21किलोमीटर के दायरे में हजारों की संख्या में मकान हैं और लाखों लोग की जन संख्या है अगर सभी मकानों को तोड़ा जायेगा तो लाखों लोग घरों से बेघर हो जाएंगे साथ ही कई गांव की आवादी भी उजड़ जायेगी। एनजीटी में 21फरवरी को अग्रिम सुनवाई होनी है जिसमे जबाब दाखिल करने के उद्देश्य से जिलाधिकारी नितिन बंसल ने वन विभाग ,विकास प्राधिकरण सहित अन्य विभागों के अधिकारियो के साथ परिक्रमा मार्ग का दौरा किया और गांव की आवादियों की स्थिति जानी।

 -योगेश भरद्वाज