कश्मीर मुद्दे पर नवाज शरीफ ने नियुक्त किए विशेष दूत

इस्लामाबाद। प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने जम्मू एवं कश्मीर में ‘भारतीय ज्यादतियों और मानवाधिकारों के हनन’ को दुनिया के विभिन्न हिस्सों में उजागर करने के लिए शनिवार को 22 सांसदों को विशेष दूत के तौर पर नियुक्त किया। प्रधानमंत्री ने एक बयान में कहा, “मैंने कश्मीर मुद्दे पर लड़ने के लिए इन सांसदों को विश्व के विभिन्न हिस्सों में भेजने का फैसला किया है। इन विशेष दूतों में पाकिस्तान के लोगों की ताकत है, नियंत्रण रेखा के पार कश्मीरियों की प्रार्थना है, संसद का जनादेश और सरकार का समर्थन है।”

Nawaz Sharif

उन्होंने कहा, “कश्मीर मुद्दे को उजागर करने के लिए इन विशेष दूतों की कड़ी मेहनत दुनिया भर में गूंजे, इसके लिए मैं इनके पीछे खड़ा हूं, ताकि इस सितंबर में संयुक्त राष्ट्र में अपने संबोधन के दौरान मैं अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की सामूहिक अंतरात्मा को झकझोर सकूं।”

शरीफ ने कहा कि पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र को कश्मीरियों को किए गए आत्मनिर्णय के उसके वादे की याद दिलाएगा और भारत को स्पष्ट करेगा कि उसी ने कई दशक पहले इस मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र गया था, लेकिन उसने अपने वादे को पूरा नहीं किया। शरीफ ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र अपना वादा पूरा नहीं कर रहा। उन्होंने साथ ही कहा कि कश्मीर मुद्दा संयुक्त राष्ट्र की सबसे बड़ी विफलता है। शरीफ ने दोहराया कि पाकिस्तान कश्मीर मुद्दे पर लेशमात्र भी नरम नहीं पड़ेगा।