समंदर की हंसी लहरों के काबिल हुक्मरान हैं हम…

नई दिल्ली। आज देश की समुद्रीय सीमाओं से दुश्मन की गतिविधियों का माकूल जबाब देने के लिए प्रतिबद्ध भारतीय नौसेना का आज विशेष दिन है। आज देश भारतीय नव सेना दिवस मना रहा है।

indian-navy-day1

इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षामंत्री मनोहर पारीकर, सेना प्रमुख दलबीर सिंह, नौसेना प्रमुख सुनील लांबा और वायुसेना प्रमुख अरूप राहा ने नौ सेना के वीर सपूतों को याद कर अपनी श्रद्धांजली दी।

कैसे बनी भारतीय नौ सेना
देश की नौ सेना इस वक्त विश्व में पांचवीं बड़ी नौसेना के रूप में जानी जाती है। यूं तो भारतीय नौ सेना का सफर 5 सितंबर 1612 में हुआ था। जब देश में अंग्रेजों का आगमन हुआ था। उस दौरान अब ईस्ट इंडिया कंपनी का पहला युद्धपोत सूरत के बंदरगाह पर पहुंचा था।

indian-navy-day2

साल 1934 में ब्रिटिश शासन काल के दौरान देश में रॉयल इंडियन नेवी की स्थापना की गई। आजादी के बाद 26 जनवरी 1950 में जब देश गणतंत्र राष्ट्र के तौर पर सामने आया तो नौसेना के नाम से रॉयल शब्द की विदाई हो गई। फिर जन्म हुआ भारतीय नौ सेना का।#Navy #Day 

क्यूं मनाया जाता है 4 दिसम्बर को नौ सेना दिवस
साल 1971 देश ही नहीं विश्व के इतिहास का सबसे बड़े सच का साल था देश की सत्ता इंदिरा के हाथों में भी देश के चिर दुश्मन पाकिस्तान से बांग्लादेश की जनता की गुहार पर भारत ने उनकी मदद का हाथ आगे बढ़ाया तो पाक ने बौखलाहट में अपने जंगी बेड़े भारतीय जल सीमा में दाखिल करने की हिमाकत कर दी । #Prime #Minister 

indian-navy-day3

पाक की इस नापाक हरकत पर भारतीय नौ सेना ने जबाबी कार्रवाई करते हुए ऑपरेशन ट्राइडेंट की शुरूआत की जिसके तहत करांची तक भारतीय नौ सेना ने घुस कर जो तबाही बचाई की उसका मंजर आज भी पाक नौ सेना के रोंगटे खड़े कर देता है।

कैसा हुई थी पाक की तबाही
पाक ने उस युद्ध में अपने जंगी बेडे और अमेरिका से खरीदी गई पनडुब्बी के सहारे पाक अपने मनसूबों को पूरा करने के लिए एक बड़ा हमला करने की सोची इस हमले में आइएनएस खुकरी को पाक की पीएनएस हंगोर ने अचानक हमला कर धोखे से 18 अधिकारियों और 176 सैनिकों के साथ डुबो दिया । जिसके बाद आइएनएस राजपूत एवं आइएनएस अक्षय ने जबाबी कार्रवाई करते हुए पाक की पनडुब्बी सममेरीन गाजी को तबाह करते हुए पाक के करांची बंदरगाह को पूरा बर्बाद कर दिया। #Narendra #Modi#Operation #Trident

indian-navy-day5

इसी ऑपरेशन ट्राइडेंट के आगाज और आइएनएस खुकरी के शहीदों की याद में हर साल भारतीय नौसेना अपना नौ सेना दिवस 4 दिसम्बर को मनाती है।

कैसी है हमारी नौ सेना की ताकत

सैन्यकर्मी
9,866 अफसर
57,999 नौसैन्य कर्मी
7,000 वायुशाखा के सैनिक
2,000 मरीन कमांडो
1,000 सागर प्रहरी बल सैनिक

indian-navy-day4

नौसैन्य क्षमता
295 कुल जंगी जहाज
1 विमानवाहक युद्धपोत
14 बड़े युद्धपोत (फ्रिगेट)
26 छोटे युद्धपोत (कोर्वेट्स)
10 विध्वंसक युद्धपोत (डिस्ट्रॉयर)
14 पनडुब्बी
2 परमाणु ऊर्जा चालित पनडुब्बी
135 तटरक्षक जहाज
6 एंटी माइन युद्धपोत
7 बड़े बंदरगाह और टर्मिनल
340 मर्चेंट मरीन जहाज

भारतीय नौ सेना के प्रमुख सैन्य अभियान
1961-आपरेशन विजय – पुर्तगालियों से गोवा मुक्ति अभियान में पहली बार नौसेना का प्रयोग
1988-आपरेशन कैक्टस – वायुसेना के साथ मिलकर मालदीव संकट का समाधान
1999-आपरेशन तलवार – कारगिल युद्ध के दौरान सहयोग
2004-सुनामी संकट में राहत एवं पुर्नवास कार्यक्रम में सहयोग
2006-आपरेशन सुकून – लेबनान में फंसे भारतीय, श्रीलंका और नेपाल के नागरिकों को निकालने में सहायता
2011-ऑपरेशन सेफ होमकमिंग के तहत युद्धग्रस्त लीबिया से भारतीयों को बचाने में अहम भूमिका निभाई।
2015-ऑपरेशन राहत : यमन में फंसे 3,074 नागरिकों को बचाने में अहम भूमिका। इसमें 1,291 विदेशी नागरिक थे।

piyush-shukla(अजस्र पीयूष)