पद्मावती विरोध पर बोले नाना पाटेकर, इतिहास से छेड़-छाड़ गलत

मुंबई। फिल्म पद्मावती के विरोध की आग बढ़ती ही चली जा रही है। इस फिल्म को लेकर इतना बड़ा विवाद खड़ा किया गया कि देश में इसके खिलाफ एक अलग ही माहौल तैयार हो गया। इस फिल्म पर हर क्षेत्र के लोगों का बयान आ चुका है। पूरी बॉलीवुड इंडस्ट्री संजय लीला भंसाली के सपोर्ट में खड़ी है। वहीं हालस ही में नाना पाटेकर ने भी इस फिल्म को लेकर अपनी प्रतिक्रिया दी है।

नाना पाटेकर ने पद्मावती विवाद पर अपनी प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए कहा है कि फिल्म तथ्यों पर होनी चाहिए, उसमें छेड़छाड़ नहीं होनी चाहिए। नाना ने कहा कि उन्होंने फिल्म नहीं देखी है। फिल्म मनोरंजन के लिहाज से बनाई जाती है। फिल्म तथ्यों पर ही होनी चाहिए। उसके साथ ऐसी छेड़-छाड़ ना हो की समाज का माहौल खराब हो जाए। नाना ने इसी बात को जोड़ते हुए कहा कि मेरी किसी भी फिल्ंम पर तनाव पैदा नहीं होता। अगर इस फिल्म पर इतना बवाल क्यों ऐसे तो बाजीराव मस्तानी में भी कोई गाना नहीं होना चाहिए था।

हालांकि नाना पाटेकर ने संजय लीला भंसाली और दीपिका को मिलने वाली धमकियों को पूरी तरह से गलत बताया है। नाना ने कहा कि जो लोग धमकियां दे रहें हैं या दीपिका के नाक-कान काटने की बात कर रहें हैं मैं उनका बिल्कूल भी समर्थन नहीं करता।

पद्मावती को लेकर संसद से लेकर सड़कों पर संग्राम जारी है. देशभर में फिल्म के खिलाफ प्रदर्शन हो रहे हैं. फिल्म की स्टारकास्ट के पुतले जलाए जा रहे हैं, पोस्टर फाड़े जा रहे हैं। एक्टर्स और डायरेक्टर्स को जान से मारने की धमकी मिल रही है। तनाव के बीच फिल्म का प्रमोशन भी बंद कर दिया गया है। फिल्म की रिलीज डेट भी आगे बढ़ा दी गई है।