म्यांमार ने रोहिग्यां मुस्लमानों को वापस लेने का दिया प्रस्ताव

नई दिल्ली। दर-बा-दर भटक रहे रोहिंग्या मुस्लिमों के लिए म्यांमार ने एक फैसला लिया है। जिसमें उसने करीब पांच लाख रोहिंग्या को वापस लेने का प्रस्ताव दिया है, जो हाल ही में हिंसा भड़कने के बाद भागकर बांग्लादेश में दाखिल हुए हैं। म्यांमार और बांग्लादेश ने शरणार्थियों की वापसी में समन्वय के लिए एक कार्य समूह का गठन पर सहमति जताई है। बांग्लादेश के विदेश मंत्री एएच महमूद अली ने म्यांमार के वरिष्ठ प्रतिनिधि क्याव तिन्ट स्वे के साथ बातचीत के बाद यह जानकारी दी। उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि वार्ता दोस्ताना माहौल में हुई और म्यांमार ने रोहिंग्या शरणार्थियों को वापस लेने का प्रस्ताव दिया है।

rohingya muslims
rohingya muslims

बता दें कि अली का कहना है कि दोनों देशों ने शरणार्थियों की वापसी की प्रक्रिया की निगरानी के लिए एक संयुक्त कार्य समूह का गठन करने पर सहमति जताई गई है। म्यांमार की सीमा से लगे बांग्लादेश की सीमावर्ती क्षेत्र में 800,000 से अधिक शरणार्थी हैं। उन्होंने कहा कि यह बैठक शांतिपूर्ण ढंग से हुई और बांग्लादेश ने म्यांमार के प्रतिनिधि को प्रस्तावित समझौते का मसौदा भी सौंपा और सुझाव दिया कि संकट के शांतिपूर्ण समाधान के लिए अन्नान आयोग की रिपोर्ट का क्रियान्वयन किया जाए।