और जब मुस्लिम लोगों ने की गाय की सेवा

मेरठ। एक तरफ जहा लोग हिंदू, मुस्लिम के नाम पर राजनीति कर रहे है तो कहीं पर गाए के कटान को लेकर हंगामे कर रहे है। वहीं, मेरठ के सैफी समाज के लोगों ने हिंदू ओर मुस्लिम एक साथ जुड कर रहे ओर एक दूसरी की भावनाओं का ख्याल रखे उसी को लेकर मौलवियों ओर मौलानाओं के साथ आज गायों की सेवा की ओर संदेश दिया गया कि गोहत्या करना एक अपराध के समान है।

नई सरकार के आते ही जहां एक तरफ अवैध बूचड़खानो पर नकल कसी और गऊशालाओ को बढावा देने की बात सामने आ रही है वहीं दूसरी तरफ अब मुस्लिम समुदाय के लोगो का भी गाय के प्रति प्रेम साफ देखा जा सकता है। ऐसा ही एक मामला मेरठ में सामने आया है।

आज 43 वें सैफी दिवस के मौके पर सैफी संघर्ष समिति के बैनर तले मुसलिम समाज के लोगो ने दिल्ली रोड़ स्थित गौपाल गौशाला पहुंच कर गौमाता की सेवा कर गाय को चारा खिलाया। इस मौके पर गौशाला पहुंचे सैफी समाज के लोगो ने देश और प्रदेश में गाय के नाम पर राजनिति करने वाले लोगो को भी सचेत किया । सैफी संघर्ष समिति के प्रदेश संयोजक की माने तो जैसे मुस्लिस धर्म में सुअर का मास खाना और शराब पिना हराम है वैसै ही गाय की हत्या करना भी हराम की श्रेणी में आता। इनको उम्मीद है कि योगी आदित्यनाथ के सूबे के मुख्यमंत्री बनने के बाद से राज्य में सुधार हुआ और आने वाले समय में गाय पर राजनिति करने वालो पर भी इसका सिधा असर देखने को मिलेगा।

 शानू भारती, संवाददाता