धार्मिक भाईचारे की नई मिसाल, मुस्लिम परिवार ने छपवाया गणेश जी वाला शादी कार्ड

बलिया। एक तरफ जहा देश में असाहिसुष्णता के माहौल का जिक्र होता है वही ऐसे खुशनुमा वाकये भी सामने आते है जो नई उम्मीदे देता है। जी है ऐसा ही कुछ हुआ बलिया के पिंडारी गांव में जहां एक मुस्लिम परिवार ने अपने दोस्तों और रिस्तेदारो को श्री गणेशाय नमः और मंगलम भगवन विष्णुः स्वस्तिक और कलश के चिन्हों के साथ ब्लॉग लिखा हुआ शादी का कार्ड छपा और बांटा है साम्प्रदायिक सद्भाव और प्रेम की खूबसूरत मिसाल पेश करता है।

जरा इस शादी के कार्ड को गौर से देखिए आप समझ रहे होंगे इसमें खास क्या है तो आप समझ लीजिए की यह खास इसलिए है कि यह गणेश, भगवन विष्णु, स्वस्तिक और कलश का चिन्ह वाला यह कार्ड किसी हिन्दू परिवार ने नहीं बल्कि हल्दी थाना क्षेत्र के पिंडारी गांव के मुस्लिम परिवार ने अपने दोस्तों और रिस्तेदारो को भेजा है। दूल्हे राजा नाशरुल्लाह की माने तो इसमें गलत क्या है? इसमें कुछ नया नहीं है। हमारा गांव हिन्दू बहुल गांव है और हमलोग मिलजुल कर शादी और त्योहार मनाते है हम गांव के सीधे साधे लोग है हम सिर्फ प्यार और भाईचारा की भासा जानते है हमलोग कई पीढ़ी से ऐसा करते आये है। जब प्रिंटेड कार्ड का जमाना नहीं था तब उनके पूर्वज कागज पर हाथ से लिखकर उसमे हल्दी लगाकर दोस्तों और रिस्तेदारो को नेवता भेजते थे जो हिन्दू धर्म में शुभ माना जाता है।

फूलो से सजी गाड़ी से शादी कर लौटते ही दूल्हे नाशरुल्लाह की माने तो उसे बहुत लोग हिन्दू ही जानते है उससे उनको कोई दिक्कत नहीं है। काफी गरीब और कम पढ़े लिखे परिवार से ताल्लुख एखने वाले ये लोग है मगर दो समुदाय के बीच संस्कृति और धार्मिक मेलजोल का बेहतरीन उधारण है।

 -संजय कुमार तिवारी