जेल में सामूहिक भूख हड़ताल पर जाएंगे सांसद पप्पू यादव

पटना। 27 मार्च को विधानसभा घेराव करने के मामले गिरफ्तार जन अधिकार पार्टी (लो) के राष्‍ट्रीय संरक्षक व सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्‍पू यादव ने आज आदर्श केंद्रीय कारा बेउर के जरिए राज्‍यपाल को एक पत्र लिख कर 10 अप्रैल के बाद आंदोलन की बात कही है। सांसद ने कहा कि 11 अप्रैल को वो 12 घंटे का सामूहिक उपवास करेंगे, उसके बाद 14 अप्रैल को 24 घंटे तक और अगर इसके बाद भी उनकी मांगों पर ध्यान नहीं दिया गया तो वो अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल पर चले जाएंगे, और ऐसे में कुछ होता है तो राज्या सरकार उसके लिए जिम्मेदार होगी।

कैलाश गुप्‍ता सहित अन्‍य कई पदाधिकारियों पर साजिश का लगाया आरोप

उन्‍होंने लिखे पत्र में विधानसभा घेराव मामले के घटनाक्रम की चर्चा करते हुए सहायक पुलिस अधीक्षक राकेश कुमार दूबे, आरक्षी उपाधीक्षक शिबली नोमानी और कैलाश गुप्‍ता सहित अन्‍य कई पदाधिकारियों पर साजिश के तहत हत्‍या करने का आरोप लगाया।

पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ हुई बदसलूकी

उन्‍होंने लिखा कि मुझे और मेरी पार्टी के कई कार्यकर्ताओं को यातना देकर न सिर्फ जेल भेजा गया, बल्कि एक अप्रैल को कोर्ट के समक्ष हथकड़ी एवं रस्‍सी लगा कर पेश किया। तब भी मुझे आशंका थी कि अगर मैं हथकड़ी लगाने से मना करूंगा, तब पुलिसकर्मी मुझे पर भागने का आरोप लगा कर गोली चला देंगे।
पेशी के दौरान कोर्ट में मैंने इसकी शिकायत की। तब कोर्ट ने मेरे साथ आए पुलिस कर्मियों से इस बाबत पूछा तो उन्‍होंने ऊपर से हथकड़ी लगाने के आदेश की बात कही। इसके बाद कोर्ट के आदेश पर हथकड़ी खोला गया।

सांसद ने पत्र में निलंबित 11 पुलिसकर्मियों का जिक्र करते हुए कहा कि मुझे अखबारों से हथकड़ी लगाने के मामले में निर्दोष पुलिस अधिकारियों व पुलिसकर्मियों के निलंबन का पता चला। जबकि साजिशकर्ता वरीय पुलिस अधिकारियों पर कोई कार्रवाई नहीं की गई, जिन्‍होंने निलंबित पुलिसकर्मियों को हथकड़ी लगाने का आदेश दिया था।

पत्र में अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग की

सांसद ने पत्र के जरिए दोषी वरीय अधिकारियों पर कार्रवाई, निर्दोष कनीय पुलिस पदाधिकार एवं पुलिसकर्मियों का निलंबन वापस लेने, झूठे मुकदमे में फंसा कर जेल भेजे गए कार्यकर्ताओं व झूठे मुकदमे में गिरफ्तार वार्ड सदस्‍यों की बिना शर्त रिहाई और मॉल-मिट्टी घोटाले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की।
उन्‍होंने न्‍याय की गुहार लगाते हुए लिखा कि हम इन सभी मांगों को लेकर 10 अप्रैल से चरणबद्ध आंदोलन कर शुरूआत करेंगे।