उत्तर पश्चिम और केरल में दो दिन पहले पहुंचा मानसून

केरल। मानसून ने दक्षिण पश्चिम के भारतीय उपमहाद्वीप में दो दिन पहले ही दस्तक दे दी है। मानसून केरल और उत्तर पश्चिम में मंगलवार को ही पहुंच गया है। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के डायरेक्टर जनरल केजे रमेश ने बताया कि इस बार मानसून ने न सिर्फ केरल बल्कि उत्तर पूर्व में भी समय से पहले दस्तक दी है, जो कृषि के लिहाज से बेहद सकारात्मक है।

बता दें कि रमेश का कहना है कि बारिश के जल्दी होने की वजह चक्रवाती तूफान ‘मोरा’ है। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक मानसून आमतौर पर एक जून को केरल तट पर पहुंचता है, लेकिन इस बार यह अपने निर्धारित वक्त से दो दिन पहले ही पहुंच गया है। केरल और उत्तर पूर्व में बारिश शुरू हो गई है। इससे पहले बंगाल की खाड़ी की ओर से केरल तट की ओर मानसून के तेजी से बढ़ने की बात कही गई थी।

इससे पहले चक्रवाती तूफान मोरा बंगाल की खाड़ी की ओर से बांग्लादेश की ओर आ गया है। मंगलवार सुबह वह बांग्लादेशी तट से टकरा गया। बांग्लादेश की मदद करने के लिए भारतीय नौसेना पूरी तरह से तैयार है। मोरा का असर पूर्वोत्तर के कई भारतीय राज्यों पर भी पड़ सकता है, जिसको लेकर चेतावनी भी जारी कर दी गई थी। इसके अलावा त्रिपुरा, मिजोरम, मणिपुर, नगालैंड और अरुणाचल प्रदेश में भी तेज बारिश का पूर्वानुमान जताया गया था।