पहली ही पोस्टिंग में धरे गए साहब, रिश्वतखोरी ने सलाखों के पीछे पहुंचाया

पटना। रिश्वतखोरी के मामले में बिहार में मोहनियां के एसडीएम आईएएस डॉ. जितेन्द्र गुप्ता को पूछताछ के बाद जेल भेज दिया। मामले में खास बात यह है कि वह पलही ही पोस्टिंग में घूस लेने के आरोप में जेल गए हैं। जितेंद्र गुप्ता पर कुछ ट्रक वालों से घूस लेने के आरोप में गिरफ्तार किया गया। गुप्ता को निगरानी अदालत ने 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया।

Jitendra Gupta

खबर के मुताबिक जितेन्द्र गुप्ता ने 4 जुलाई को चार ट्रक मोहनियां के एक लाइन होटल से पकड़ा था। ट्रकों की फाइल वह अपने साथ ले गए, जिसके बाद आरोप लगाया गया कि एसडीएम के ड्राइवर ने 1 लाख 40 हजार रुपये की मांग की। कहा जा रहा है कि आखिर में 90 हजार पर मामला तय हुआ। जिसके बाद विजिलेंस की कार्रवाई में गुप्ता को धर-दबोचा गया।

बता दें कि ऐसा पहला मामले सामने आया है जब किसी अफसर को पहली ही पोस्टिंग में विजिलेंस ने घूसखोरी के आरोप मे गिरफ्तार किया हो। जितेंद्र गुप्ता 2013 बैच के आईएएस हैं और बिहार के मोहनिया में बतौर एसडीएम ये उनकी पहली पोस्टिंग है।

वहीं, राज्य की आईएएस एसोसिएशन का कहना हैं कि ये कार्रवाई गलत है और ड्राइवर के बयान पर अधिकारी की गिरफ्तारी अगर होने लगी तो आने वाले दिनों में देश के कई अधिकारी जेल जा सकते हैं।