खेलने-कूदने की उम्र में लिए सात फेरे

बरेली। आखिर प्यार जब परवान चढ़ता है तो ना उम्र ना जाति ना जगह माइने रखती है । माइने तो केवल साथ होने और एक साथ समाज दुनियां जहान से मुकाबला कर अपने प्यार को हासिल करने की एक अदद कोशिश होती है। ऐसा ही एक कारनामा बरेली के एक निजी स्कूल में हुआ जिसके बाद स्कूल प्रशासन से लेकर अभिभावक और पूरे जिले में बस हंगामा मच गया।

दरअसल इसी स्कूल के एक प्रेमी छात्र-छात्रा ने शादी कर ये हंगामा मचा दिया है। लेकिन ये शादी ना कानून की नजर में जायज है ना समाज की बस दो प्रेमियों की नजर में ये शादी ही अपने प्यार को पाने का एक रास्ता दिखा जिसके कंटक पथ पर ये हो चले हैं। इनकी उम्र महज 15 और 16 साल की है। इस उम्र में इस तरह का कदम उठाने से एक तरफ परिवार वालों का कोप भाजन होना पड़ रहा है। दूसरी तरफ पूरे शहर में इस बात को लेकर चर्चा हो रही है।

स्कूल प्रशासन भी अब इस मुद्दे पर कुछ बोलने और कहने को राजी नहीं है। विद्यायल प्रशासन अब इस मामले से जिले में उसकी गिर रही साख को बचाने के लिए पल्ला झाड़ता नजर आ रहा है। लेकिन स्कूल से जुड़े सूत्रों की माने तो इन छात्र-छात्रा के जोड़े ने स्कूल परिसर में ही मोमबत्ती जलाकर सात फेरे लिए और छात्र ने छात्रा की मांग सिंदूर से भरी साथ ही मंगलसूत्र गले में डाल कर उसे उपनी पत्नी के तौर पर अपना लिया। दोनों ने ये शादी अपनी रजामंदी से की है।

इसके बाद जब इस मामले की भनक स्कूल प्रशासन को लगी तो आनन-फानन में इन के अभिभावकों को नोटिस देकर स्कूल बुला लिया गया। जहां इनके मां-बाप अपने ही बच्चों पर भड़क गये लेकिन विद्यालय प्रशासन ने इनकी उम्र और मामले की गम्भीरता को देख मां-बाप को समझाया। फिलहाल अब दोनों परिवार और स्कूल प्रशासन कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है।