मंत्री पंडित सिंह पर लगा लैपटॉप वितरण में धांधली का आरोप

गोण्डा। मेधावी छात्रों ने आज कलेक्ट्रेट में नारेबाजी व प्रदर्शन कर लैपटॉप वितरण कार्यक्रम में भ्रष्टाचार व पक्षपात का आरोप लगाते हुए डीएम को संबधित ज्ञापन एक्स्ट्रा मज़िट्रेट को सौंपा। छात्रों ने गत 18 दिसम्बर को वितरित किये गए । लैपटॉप कार्यक्रम में सूबे की सरकार में कृषि कैबिनेट मंत्री विनोद कुमार उर्फ पंडित सिंह पर चहेतों को लैपटॉप दिए जाने का गंभीर आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री अखिलेश यादव व सपा सरकार के विरुद्ध मुर्दाबाद के नारे भी लगाये।

gonda

छात्रों के इस विरोध प्रदर्शन से सपा सरकाए के लैपटॉप वितरण कार्यक्रम में ईमानदारी व निष्पक्षता पर सवालिया निशान भी लग गया। छात्र खासे आक्रोशित व आंदोलित नज़र आये। उन्होंने जिले के तीन-तीन प्रतिष्ठित विद्यालयों का नाम लेते हुए कहा की इस विद्यालय के सैकड़ों 10 सीजीपीएस छात्र हैं जिन्हें लैपटॉप नहीं दिया गया जबकि विद्यालय से सभी की सूची गयी थी। आंदोलित छात्र साफ़-साफ़ कह रहे हैं कि लैपटॉप चेहरा देखकर दिया गया है।

जो लोग अध्यापकों व मंत्री पंडित सिंह के ख़ास लोग थे उनको लैपटॉप दिए गए जबकि इसमें से काफी बच्चे 88-89 प्रतिशत वाले हैं। लैपटॉप वितरण में भ्रष्टचार व पक्षपात के लिए प्रदेश सरकार व मंत्रीं पंडित सिंह को जिम्मेदार बताते हुए छात्र बोले कि विद्यालय से 198 बच्चों की लिस्ट भेजी गयी थी जब डीआईओएस से लिस्ट के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि प्रशासन से जो लिस्ट आयी थी उसके अनुसार लैपटॉप वितरण किया गया है जाइये प्रशासन से बात किजिए।

प्रदेश सरकार की पूरी हेराफेरी बताते हुए छात्र ने दिनेश यादव नाम के छात्र का नाम लेते हुए कहा कि दिनेश यादव को 95 प्रतिशत अंक मिले हैं लेकिन आरक्षण में होने के बावजूद इन्हें भी लैपटॉप नहीं मिला। वे बोले कि 10 सीजीपीएस से ऊपर रैंक हो ही नहीं सकता तो फिर हमको लैपटॉप क्यों नहीं मिला। इस प्रकरण से यह साफ़ है कि चुनावी वातावरण में वोट की राजनीति के तहत जिस तरह से चेहतों को भ्रष्टाचारपूर्ण तरीके से लैपटॉप वितरित किये गए व्सयह पूरी तरह से फिस्सडी साबित होती नज़र आ रही है।

rp_gondaविशाल सिंह, संवाददाता