अतीक के सवाल पर भड़े मंत्री पंडित सिंह

गोण्डा। उत्तर प्रदेश की अखिलेश सरकार में कृषि केबिनेट मंत्री विनोद कुमार “पंडित सिंह” ने आज भाजपा को जी भरकर कोसा। भाजपा को अपराधियों का गढ़ व अपने प्रबल प्रतिद्वंदी भाजपा सांसद व कुश्ती महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष बृज भूषण शरण सिंह को अपराधी तक घोषित कद डाला। यंही नहीं मंत्री महोदय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जंहा झूठा कहा वंही पूरी भाजपा को बेईमानों की पार्टी भी कह डाला।

pandit-singh-gonda

ऐसा लग रहा था कि जैसे मंत्री को सारी दुश्मनी भाजपा से ही हो और समाजवादी पार्टी को सारा राजनेतिक खतरा भी शायद भाजपा से ही हो। सूबे की सरकार के काबीना मंत्री पंडित सिंह आज गोंडा महोत्सव के समापन दिवस पर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के ड्रीम प्रोजेक्ट डॉयल 100 में जिले में आयी 44 नए पुलिस वाहनों का उद्घाटन करने आये थे। मंत्री में यह सारी बातें डायल 100 की सभी गाड़ियों को हरी झंडी दिखाकर रवाना करने के बाद मीडिया से रूबरू हो होते हुए कही।

मंत्री उस समय आवेशित होकर पत्रकार ही बरस पड़े जब सपा में अपराधियों को सबसे ज्यादा तरजीह व टिकट देने के नाम पर पत्रकार ने इलाहाबाद के प्रत्याशी अतीक अहमद पर सवाल किया। यकायक उग्र हुए मंत्री पंडित सिंह बोले अरे अतीक की क्यों बात करते हो आप, बृज भूषण की बात करो….उनकी भी बात करो। सब अपराधी है, भाजपा अपराधियों का गढ़ है। भाजपा पर ही तीर छोड़ते हुए पूर्वांचल के बाहुबली हरि शंकर तिवारी का जिक्र करते हुए पंडित सिंह ने कहा कि भाजपा व लोकतांत्रिक कांग्रेस की जब सरकार बनी थी तब यही भाजपा के लोगों ने हरि शंकर तिवारी को मंत्री बनाने का काम किया था।

गोंडा महोत्सव व डायल 100 सेवा के उद्घाटन को समाजवादी पार्टी का प्रचार व सपा के लिए वोट मांगने का सिम्बल बनाते हुए मंत्री पंडित सिंह ने जंहा मंच से पीएम मोदी को झूठा बोलते हुए मंत्री ने 2017 चुनाव में खुद के लिए वोट मांगते हुए अखिलेश यादव को दुबारा मुख्यमंत्री बनाने की अपील की वंही कहा कि भाजपा के लोग बहुत बड़े झूठे है। ये झूठ की बुनियाद पर चुनाव लड़ते हैं। ये बेईमान लोग हैं। ये सत्ता में नहीं रहते हैं तो योजना बनाते है दंगा कराते हैं और सत्ता में आते हैं तो मीटिंग, भोजन, विश्राम करते हैं। काम एक नहीं करते हैं।

मंच पर चाचा – भतीजे की माइक छीनने की घटना पर पूछे गए प्रश्न के जवाब में मंत्री ने मीडिया पर ही आरोप लगाते हुए कहा कि प्रेस के लोग ही भ्रम पैदा कर रहे हैं। मंत्री का पत्रकारों पर भड़कना नहीं रुका अयोध्या के विवादित ढांचे पर पूछे गए प्रश्न की राम मंदिर है कि बाबरी मस्जिद है। पत्रकार के इस सवाल पर मंत्री ने पत्रकार पर ही उल्टे आरोप लगाते हुए अपनी चिर परिचित शैली में कह डाला की “जऊन तोहरे दिमाग के खुराफात काहे वाहे है”।

rp_gondaविशाल सिंह, संवाददाता