मेरठ पहुंचा स्वाइन फ्लू

मेरठ। जीका वयरस के अलर्ट के बाद अब मेरठ में स्वाइन फ्लू ने दस्तक दे दी है। पहले तो आरटीओ विभाग में तैनात आरटीओ को स्वाइन फ्लू हुआ और अब सैनिक की माँ को स्वाइन फ्लू ने अपनी चपेट में ले लिया है। लगतार इसके मरीजो में बढ़ोतरी होती जा रहे है। इससे स्वास्थ्य विभाग में भी हड़कंप मच गया है और इससे बचने के लिए महकमे ने अपनी पूरी तैयारियां कर ली है।

मेरठ में स्वाइन फुलू का एक और केस मिलने से स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है। पिछले एक सप्ताह में स्वाइन फ्लू के दो केसो की पुष्टि हुई है। श्रद्धापुरी में रहने वाले आर्मी में कैप्टन की मां को स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने आर्मी अस्पताल, श्रद्धापुरी में उनके घर जाकर परिजनों को टेमी फ्लू दवा का कोर्स दिया। कैप्टन का परिवार पिछले सप्ताह केदारनाथ यात्र पर गए था, यात्र से लौटते समय परिवार के तीनों सदस्य खांसी, जुकाम और वायरल की चपेट में आ गए। हरीश और उनके पुत्र तो दवाएं लेने के बाद ठीक हो गए, लेकिन हरीश की पत्नी प्रेरणा की हालत में सुधार नहीं हुआ। उन्हें सांस लेने में तकलीफ होने लगी। परिजनों ने मेरठ आकर आर्मी अस्पताल में डाक्टरों से परामर्श लिया। 26 मई को उनकी हालत बिगड़ गई और उन्हें आर्मी अस्पताल में भर्ती कराया गया।

कई दिन यहां चले उपचार के बाद भी जब उनकी हालत में सुधार नहीं हुआ तो डॉक्टरों को स्वाइन फ्लू की आशंका हुई। सैंपल एच-1, एन-1 जांच के लिए दिल्ली लैब भेजा गया।दिल्ली लैब से जांच रिपोर्ट स्वाइन फ्लू पॉजिटिव आई है। डाक्टरों ने टेमी फ्लू दवा का कोर्स शुरू कर दिया है। गुरुवार को आर्मी अस्पताल की रिपोर्ट में स्वाइन फ्लू की जानकारी स्वास्थ्य विभाग को मिली तो टीम, आर्मी अस्पताल और श्रद्धापुरी स्थित उनके आवास पर पहुंची। हरीश और उनके बेटे को टेमी फ्लू दवा की डोज उपलब्ध कराई गई। डॉक्टरों ने जल्द ही ठीक करने का भरोसा जताया है।

उधर फ्वाइन फ्लू के मेरठ में दस्तक देने के बाद सीएमओ ने अपनी तैयारियां पूरी कर रखी है, टास्क फ़ोर्स बनकर जिले भर में छोड़ दिया गया है, जो जिले में सभी सीएचसी पीएचसी पर जाकर जाँच कर रही है, और स्वाइन फ्लू की पुस्टि होने पर उपचार के साथ डोज दे रहे है।