दिल्ली में पूरी हुई डेंगू और चिकनगुनिया से बचाव की तैयारी: सत्येंद्र जैन

नई दिल्ली। दिल्ली में हुई प्री-मानसून बरसात के चलते डेंगू एवं चिकनगुनिया की बढ़ते खतरे को देखते हुए सरकार ने प्रशासनिक अमले को कमर कसकर तैयार रहने के निर्देश दिये हैं। साथ ही सरकार ने इस संबंध में की गई तैयारियों का भी जायजा लेना शुरू कर दिया है। स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन ने पहले में डेंगू और चिकनगुनिया की तैयारियों को लेकर दिये गये निर्देशों के क्रियान्वयन के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि 2017 में भी तक डेंगू के 50 केस सामने आये हैं जबकि 17 जून तक चिकनगुनिया के 105 मामले आये। स्थिति की गंभीरता का देखते हुए सभी हॉस्पिटल और नर्सिंग होम्स को फौरी तौर पर 6 महीने के लिए 10 से 20 फीसदी तक बेड बढ़ाने की अनुमति दी गई थी। इससे 2000 से लेकर 4000 बेड तक बढ़ जायेंगे। सभी नर्सिंग होम एवं अस्पताल इस दिशा में तेजी से काम कर रहे हैं। इसके अलावा सरकार ने ब्रूफेन ग्रुप की सभी दवाएं 6 महीने तक बैन करने के निर्देश दिये थे। स्वास्थ्य निदेशालय गंभीरता के साथ सरकार के इस निर्णय को लागू करवाने में जुटा है। इसके लिए तय किये गये निरीक्षक औचक​ निरीक्षण करके स्थिति का जायजा ले रहे हैं।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा डेंगू एवं चिकनगुनिया से निपटने के लिए सरकार अपनी और से सभी उपाय कर रही है लेकिन इसमें जन भागीदारी की भी जरूरत है। उन्होंने कहा कि लोगों को इस बीमारी के लक्षण एवं सही उपचार के बारे में जागरूक होना पड़ेगा। इसके लिए सरकार ने व्यापक स्तर पर जागरूकता अभियान शुरू किया है। जिसके तहत पूरी दिल्ली में डीटीसी बसों, बस स्टॉप, मेट्रो स्टेशन,रेलवे स्टेशन तथा बस अड्डों, सार्वजनिक स्थानों पर 2000 होर्डिंग लगाये गये हैं। इसके अलावा एफएम,अखबार तथा टीवी में विज्ञापन दिये जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि इस बारे में सभी हेल्थ वर्कर्स एवं डॉक्टरों की उपयुक्त ट्रेनिंग पूरी हो चुकी है। वे स्वयं हेल्थ वर्कर्स,डॉक्टरों एवं अन्य मेडिकल स्टाफ से रेगुलर मीटिंग करके इस बारे में जानकारी प्राप्त कर रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्री ने लोगों को सुझाव दिया कि अपने आसपास मच्छर पैदा न होने दें, पूरी बाजू के कपड़े पहने, सुबह शाम खास ध्यान रखें तथा किसी भी हालत में पानी का जमाव न होने दें। उन्होंने कहा कि इस मौसम में शरीर में पानी की कमी न होने दें। शुरूआती लक्षणों के बाद तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें लेकिन हॉस्पिटल में डॉक्टर के कहने पर ही एडमिट हों। इसमे सबसे ज्यादा ध्यान रखने वाली बात यह है कि डेंगू एवं चिकनगुनिया के लक्षणों खासकर बुखार होने पर दवाई खुद न लें। स्वास्थ्यमंत्री ने कहा कि उक्त बीमारियों के घबराने की जरूरत नहीं है। सरकार ने इसकी पूरी तैयारी कर ली है। दिल्ली सरकार हर जरूरतमंद को बेड उपलब्ध करवाएगी।