मायावती ने भाजपा की नीयत पर खड़े किए सवाल

लखनऊ। यूपी चुनावों में भाजपा की जीत के बाद हर राजनीतिक पार्टी के लिए हार खट्टे साबित हो रहे हैं। एक के बाद एक राजनेताओं की बयानबाजी का दौर जारी है। कभी ईवीएम पर सवाल उठ रहे हैं तो कभी नीयत पर। राजनीतिक गर्मा-गर्मी के बीच बसपा सुप्रीमो मायावती ने भाजपा पर बड़ा आरोप लगाया है।

मायावती ने बुधवार को भाजपा पर हमला करते हुए कहा कि यूपी की जीत बेईमानी, धांधली व लोकतंत्र की हत्या करने वाली जीत है। वे बीजेपी नेताओं के चेहरे पर बनावटी जीत का मुस्कान बताया। भाजपा पर आगे बोलते हुए मायावती ने कहा कि जातिवादी मानसिकता की पार्टियां साम, दण्ड व भेद के कारण राजनीति में माहिर हैं। इधर के चुनावों में काफी गड़बड़ी होने की घटनाएं सामने आयी हैं। जातिवादी लोग दलितों व पिछड़ों को गुलाम बनाकर रखना चाहते हैं। दलितों व पिछड़ों को अपने पैरों पर खड़ा होने की जरूरत है।

भाजपा पर ताबड़तोड़ आरोप लगाते हुए कहा कि यूपी के चुनाव में ईवीएम में घोटाले व धांधली किया गया है। भाजपा पर बेईमानी से सत्ता हासिल करने का आरोप लगाया और कहा कि प्रधानमंत्री मोदी फिर केन्द्र की सत्ता का स्वप्न देख रहे हैंमायावती ने कहा कि ईवीएम की धांधली गोवा, मणिपुर व पंजाब में नहीं किया सिर्फ उत्तरप्रदेश व उत्तराखण्ड में भाजपा ने धांधली करके जीत हासिल की है।

मायावती ने आशंका जाहिर करते हुए कहा कि बीजेपी आरएसएस के एजेंण्डे पर आरक्षण को प्रभावहीन बना सकती है। कहा कि कांशीराम जातिवादी व्यवस्था के खिलाफ जीवन भर लड़ाई लड़ी। दलित शोषित वर्ग के लिए कांशीराम जी ने काम किया। मायावती ने पत्रकारों को मीडिया घराने का कर्मचारी तक बता डाला।

प्रहारों का सिलसिला जारी रखते हुए मायावती ने कहा कि यूपी और उत्तराखंड में भारी जीत के बाद 2019 में बीजेपी फिर केन्द्र की सत्ता में आने के सपने देख रही है। भारी बहुमत के बाद इनकी भाषा बदल गई है। अपने पदाधिकारियों को सचेत करते हुए कहा कि 2019 तक यह आरक्षण से छेड़छाड़ नहीं करेंगे। यदि चूकवश 2019 में सत्ता में आ गए। तो यह अपने आरएसएस के एजेंडे में चलकर आरक्षण को सामाप्त कर देंगे या फिर निष्प्रभावी बना देंगे।

बसपा सुप्रीमों ने कहा कि ईवीएम धांधली मामले में चुनाव आयोग का सही जवाब नहीं मिलने के कारण वे इस मामले को आदलत में लेकर जाएंगी। कहा कि इस मामले को लेकर देश के अन्य राज्यों में आंदोलन करेंगी और बीजेपी की पोल खोलेंगी।