गोरखपुर कांड: आरोप-प्रत्यारोप के मैदान में आई मायावती, ‘बीजेपी की जितनी निंदा हो उतनी कम’

गोरखपुर। गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में हुई बच्चों की मौत के बाद सियासत थमने का नाम ही नहीं ले रही है। ऑक्सीजन की कमी के कारण हुई 30 से ज्यादा बच्चों की मौत के बाद बीजेपी को चारों तरफ से घेरा जा रहा है। जहां कांग्रेस ने बीजेपी पर तीखा तंज कसते हुए इस्तीफे की मांग की है तो दूसरी तरफ आरोप-प्रत्यारोप के सिलसिले में अब बसपा सुप्रीमो मायावती भी मैदान में आ गई हैं।

mayawati attack, bjp, gorakhpur kand, child death, hospital
mayawati attack on bjp

मायावती ने शनिवार को प्रदेश सरकार पर जमकर हमला बोला है। उनका कहना है कि इस घटना के बाद बीजेपी की जितनी निंदा की जाए उतनी कम है। उन्होंने इस घटना को दुखद बताया है। वही दूसरी तरफ पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी योगी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा है कि ऑक्सीजन की कमी के कारण बच्चों की मौत हुई है उसका जिम्मेदार सरकार है। अखिलेश यादव ने पीड़ितों के लिए 20-20 लाख रुपए का मुआवजा देने की मांग भी की है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के कहने के बाद चार नेता गोरखपुर में पहुंच गए हैं। यहां पर कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी, गुलाम नबी आजाद, संजय सिंह और राज बब्बर गोरखपुर में पहुंचने के बाद कांग्रेस ने योगी सरकार पर जमकर हमला बोला है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने गोरखपुर पहुंच कर योगी सरकार पर खूब हमला बोला। उन्होंने कहा है कि यह घटना काफी दुखद है और अस्पताल में बच्चों की मौत नहीं हुई है, यहां बच्चों की हत्या की गई है। उन्होंने कहा है कि बच्चों की मौत में डॉक्टरों की कोई भी गलती नहीं है, बच्चों की हत्या के जिम्मेदार सूबे के नेता हैं। उन्होंने कहा है कि राज्य सरकार की लापरवाही के कारण बच्चों की मौत हुई है और इसके लिए राज्य सरकार ही दोषी है। गुलाम नबी आजाद ने सीधे तौर पर सीएम योगी पर हमला बोलते हुए कहा है कि सूबे में राज्य में दो मंत्री हैं और घटना के बाद स्वास्थ्य मंत्री और स्वास्थ्य सचिव के साथ साथ सीएम योगी को भी इस्तीफा देना चाहिए और सीएम योगी को इस मामले में पूरे देश से माफी मांगनी चाहिए।