असम में ऐसे बरपा है तुफान का कहर, पिता पुत्र की हुई मौत

गुवाहाटी। असम वर्तमान में अभी भी बाढ़ की विभिषिका से जूझ रहा है। इस कड़ी में बुधवार की तड़के आए तेज बरसात और तूफान ने लोगों की और मुश्किलें बढ़ा दी हैं। इस प्राकृतिक आपदा में पिता-पुत्र की जहां मौत हो गई वहीं परिवार के अन्य तीन व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। घटना ऊपरी असम के तिनसुकिया जिले की है।

Massive, devastation, Assam, father, son, death, storm
assam

जानकारी के मुताबिक जिले के काकोपथार के 3 नंबर रुमाई गाभरू गांव में बुधवार की तड़के को आई तेज बारिश और तूफान के चलते एक परिवार का सबकुछ बर्बाद हो गया है। तूफान के चलते घर पर एक विशालकाय पेड़ गिर पड़ा, जिसके चलते घर में सो रहे पिता संजीव डेका की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि पत्नी बबिता डेका, बड़ा बेटा नवीन डेका और छोटा बेटा रोहित डेका गंभीर रूप से घायल हो गए। तीनों को स्थानीय अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया। जहां पर नवीन डेका (14) की मौत हो गई। जबकि 12 वर्षीय रोहित व उसकी मां गंभीर रूप से घायल हैं। उन्हें उन्नत चिकित्सा के लिए डिब्रूगढ़ मेडिकल कालेज अस्पताल में भर्ती कराया गया है। तूफान के चलते इलाके में भारी तबाही हुई है। बिजली के खंभे उखड़ जाने से बिजली की आपूर्ति ठप हो गई है। वहीं सड़कों पर घरों पर बड़े-बड़े पेड़ उखड़कर गिर पड़े हैं। रास्ता भी पूरी तरह से बंद हो गया है।

बता दें कि इसी तरह की स्थिति ऊपरी असम के लखीमपुर जिले में भी देखने को मिली है। हालांकि हादसे में कोई हताहत नहीं हुआ है। लेकिन घरों की छत, सड़कों पर पेड़ गिरने और बिजली की आपूर्ति बाधित हुई है। जबकि ऊपरी असम के जोरहाट जिले के टियक स्थित जाजीमुख में भी तूफान ने जमकर कहर बरपाया है। इलाके के सैकड़ों ग्रामीणों के कई घर पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गए हैं। वहीं सड़क पर बड़े-बड़े पेड़ गिर पड़े हैं, जिसके चलते बिजली की आपूर्ति प्रभावित हुई है।

वहीं ऊपरी असम के विश्व के सबसे बड़े नदी दीप माजुली जिले में भी तूफान से तबाही देखने को मिली है। बाढ़ से माजुली को काफी नुकसान हुआ है, जबकि एक बार फिर से तूफान के तांडव ने गरीबों के आशियाने को छिन लिया है। 50 से अधिक लोगों के घरों की टीन से बनी छतें उड़ गई हैं। काफी संख्या में पेड़, बिजली के खंभे आदि उखड़कर सड़कों पर गिर पड़े हैं। इसके चलते यातायात व्यवस्था पर भी काफी असर पड़ा है। तूफान प्रभावित सभी जिला प्रशासन ने संबंधित विभागों को राहत व बचाव कार्य के लिए तुरंत जुट जाने का निर्देश जारी किया है।