महागठबंधन में पैदा हुई दराद राजद द्वारा नीतीश पर धोखा देने का आरोप

पटना। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रामनाथ कोविंद को अपना समर्थन दे दिया है,जिसके बाद महागठबंधन में दरार पैदा हो गयी है। नीतीश के ऊपर आरोप लगाते हुए राजद उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद ने कहा की नीतीश ने धोखा दिया है,नीतीश के साथ ना देने से विपक्ष कमजोर नहीं होगा और नीतीश कोई तोप नहीं है। रघुवंस प्रसाद ने बोला की एक-दो के ईधर-उधर हो जाने से विपक्ष कमजोर नहीं होगा लेकिन कुछ लोगों की असलीयत सामने आ गयी है लेकिन हम राष्ट्रपति उम्मीदवार को लेकर विपक्ष एनडीए को बहुत कड़ी टक्कर देगा,साथ ही कहा की नीतीश कोई पूरे देश के नेता तो ही नहीं।


राजद विधायक भाई वीरेंद्र ने बोला की नीतीश को भाजपा से दोस्ती निभानी है तो वह खुल कर क्यों नहीं बोल रहे है। नीतीश महागठबंधन को ठेंगा दिखा रहे है,नीतीश ने यह फैसला लेकर कांग्रेस और राजद दोनों को ही धोखा दिया है। राष्ट्रपति चुनाव को लेकर लालू और नीतीश दोनों ही अलग-अलग छोर पर खड़े हो गए है। राष्ट्रपति उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को (जदयू) जनता दल यूनाइटेड का समर्थन मिल गया है। दूसरी तरफ राष्ट्रीय जनता दल (राजद) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने साफ कर दिया है की कांग्रेस की तरफ से बृस्पतिवार को विपक्ष की बैठक में जो भी फैसला होगा लालू उसे ही मानेंगे।

राष्ट्रपति चुनाव को लेकर विपक्ष में गहमा-गहमी चल रही है लेकिन नीतीश ने रामनाथ कोविंद को समर्थन देने के बाद राजद विधायक ने कहा की अगर नीतीश भाजपा से दोस्ती निभा रहे है तो निभाते रहे वह खुल के क्यों नहीं बोल रहे है की वह भाजपा से दोस्ती कर चुके है। नीतीश के साथ में ना होने से महागठबंधन कमजोर नहीं होगा हम एनडीए को कड़ी टक्कर देंगे अगर नीतीश भी महागठबंधन में शामिल होते तो महागठबंधन और मजबूत हो जाता,नीतीश के साथ ना होने से कोई फर्क नहीं पड़ता है,विपक्ष एनडीए को कड़ी टक्कर देने वाला है।