बेटे का पहला जन्मदिन और बाप को दी गई अंतिम विदाई

औरंगाबाद। हर बाप का अरमान होता है कि वो अपने बेटे के जन्मदिन को पूरी धूम धाम से मनाए लेकिन जवान संदीप जाधव इस अरमान को लेकर पाकिस्तान की बॉर्डर एक्शन टीम हमले में शहीद हो गए। जिसके बाद शनिवार को जाधव का अंतिम संस्कार किया गया। संदीप एक महिने बाद आज के दिन अपने बेटे का जन्म दिन मनाने के लिए छुट्टी पर आने वाले थे। लेकिन किस्मत को शायद कुछ और ही मंजूर था। बेटे के जन्मदिन मनाने की बजाय परिवार को संदीप का अंतिम संस्कार करना पड़ा। जिस दिन संदीप को अंतिम विदाई दी गई उसी दिन उनके बेटे का जन्मदिन था। अपने जन्मदिन पर संदीप के एक साल के बेटे ने शहीद पिता को मुखाग्नि देकर अंतिम विदाई दी।

बता दें कि शहीद संदीप के पार्थिव शरीर को शुक्रवार रात 10 बजे औरंगाबाद एयरपोर्ट लाया गया। इसके बाद संदीप जाधव के पार्थिव शरीर को सैनिकों ने सम्मान के साथ सलामी दी। साथ ही साथ आमदार, महापौर, पुलिस आयुक्त सह जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक ने भी उनके पार्थिव शरीर को श्रद्धांजलि दी। एयरपोर्ट पर नागरिकों ने पाकिस्तान के खिलाफ नारे लगाए। साथ ही शहीद जवान के लिए अमर रहे के नारे लगाए। शहीद संदीप जाधव के पार्थिव शरीर को औरंगाबाद के मिलिटरी हॉस्पिटल में रखा गया था।

वहीं इस साल तीसरी बार भारतीय सीमा में घुसकर हमले करने की पाकिस्तानी BAT की कोशिश को गुरुवार दोपहर को पुंछ में भारतीय सेना ने नाकाम कर दिया था। भारतीय सेना की जवाबी कार्रवाई में एक घुसपैठी मारा गया था। इस कार्रवाई में भारत के दो जवान शहीद हो गए थे।

क्या है ‘बैट’
BAT पाकिस्तान के सैनिकों और आतंकियों की सीमा पर सक्रिय रहने वाली एक मिलीजुली टीम है। दरअसल यह पाकिस्तान की स्पेशल फोर्स से लिए गए सैनिकों का एक ग्रुप है। हैरानी की बात ये है कि BAT में सैनिकों जैसी ट्रेनिंग पाए आतंकी भी हैं। इन्हें एलओसी में 1 से 3 किलोमीटर तक अंदर घुसकर हमला करने के लिए तैयार किया गया है। ‘बैट’ को स्पेशल सर्विस ग्रुप यानी एसएसजी ने तैयार किया है। यह पूरी प्लानिंग के साथ अटैक करती है। ये टीम पहले खुफिया तौर पर ऑपरेशनों को अंजाम देती थी लेकिन बाद में मीडिया की वजह से खबरों में रहने लगी।