ब्लू व्हेल गेम को बैन करने की संभावनाएं तलाशें- हाईकोर्ट

इन दिनों ब्लू व्हेल चैलेंज गेल सुर्खियों में अपनी खूब जगह बना रहा है। आए दिन खबर सामने आ रही है कि बड़े से लेकर बच्चे तक इस गेम का शिकार होकर आत्महत्या कर रहे हैं। इस मामले की गंभीरता को देखते हुए मद्रास हाईकोर्ट ने केंद्र तथा तमिलनाडु सरकार को इस गेम की संभावनाओं का पता लगाने के निर्देश दिए हैं। इस मामले में मदुरै पीठ के जज केके शशिधरन तथा जज जीआर स्वामीनाथन ने सूचना प्रौद्योगिकी विभाग और गृह राज्य सचिल को नोटिस भी जारी किया है।

blue whale game

1 सितंबर को वकील कृष्णमूर्ति ने इस गेम पर रोक लगाने का निर्देश देने की अपील की थी। कोर्ट ने इस पर तत्काल संज्ञान लेने के लिए कहा गया था। इस मामले में सुनवाई के दौरान सरकार की तरफ से कहा गया है कि गेम के कारण जिस छात्र ने खुदकुशी की है उसने इसे 75 लोगों के साथ साझा भी किया है। सरकार की तरफ से कहा गया है कि फिलहाल इस खेल को रोक लिया गया है। आपको बता दें कि आए दिन खबरें सामने आ रही है कि ब्लू व्हेल टास्क को पूरा करने के लिए लोग आत्महत्या कर रहे हैं।

ऐसा ही एक मामला 30 अगस्त को भी सामने आया था। जब 19 वर्षीय युवक ने गेम का टास्क पूरा करने के लिए आत्महत्या कर ली थी। मृतक का नाम विग्नेश था। जोकि अपने दोस्तों के साथ भी इस गेम को शेयर करता था। बताया जा रहा है कि वह इस गेम को खेलने के लिए पागल हो रखा था। ऐसे में मृतक के पास से एक सुसाइड नोट भी मिला था। सुसाइड नोट में विग्नेश ने इस गेम को ना खेलने की अपील की थी और लिखा था कि यह गेल काफी हानिकारक है। उसने लिखा था कि अगर यह गेल कोई खेलता है तो वह इससे बाहर नहीं निकल सकता है।