जेल से छूटकर पति ने भाइयों के साथ मिलकर दोबारा किया पत्नी का रेप

पंजाब। पंजाब के लुधियाना में हैवानियत की हद पार कर इंसानियत को शर्मसार कर देने वाला मामला सामने आया है। जहां पति ने दो भाईयों के साथ मिलकर  दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया। जबकि पति पहले इसी युवती के साथ रेप के मामले में जेल जा  चुका था। हालांकि बचने के लिए उसने उस युवती से शादी कर ली थी। शादी के बाद जब युवती ने केस वापस ले लिया तो युवक ने उसे केस दर्ज कराने की सजा देने के लिए अपने दो भाईयों के साथ मिलकर  हवस का शिकार बनाया। इस मामले में केस दर्ज न करने के मामले में युवती ने आत्महत्या करने की कोशिश की उसके बाद डीजीपी के कहने पर मामला दर्ज किया गया। युवती का आरोप है कि पति ने भाइयों के साथ मिलकर उसके साथ सामुहिक दुष्कर्म किया। आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कराने के लिए युवती कभी पुलिस कमिश्नर तो कभी पुलिस स्टेशन के चक्कर काटती रही। एक बार उसने पुल से गिरकर जान देने की भी कोशिश की लेकिन पुलिस ने उसकी एक भी नहीं सुनी।

बता दें कि जब युवती की गुहार किसी ने नहीं सुनी तो उसने चढ़ीगढ़ डीजीपी सुरेश अरोड़ा से मिलकर इंसाफ की गुहार लगाई। उसके बाद डीजीपी के कहने पर मामला दर्ज किया गया और आदेश पर लुधियाना पुलिस ने युवती के पति और उसके दोनों भाइयों के खिलाफ दुष्कर्म का केस दर्ज किया गया। पुलिस का कहना है कि फिलहाल आरोपी फरार है लेकिन उसको पकड़ने के लिए छापेमारी की जा रही है। पुलिस के पुछताछ किए जाने पर युवता ने बताया कि साल 2016 में आरोपी हैप्पी विज ने उसके साथ दुष्कर्म किया था। जिसकी शिकायत युवती ने बस्ती जोधेवाल पुलिस से की थी पुलिस ने आरोपी के खिलाफ केस दर्ज कर उसे जेल भेज दिया था। युवती का कहना है कि 8 महीने बाद हैप्पी ने उसे एक जानकर के हाथ संदेशा और उससे कहा कि वो उससे शादी कर लेगा। लेकिन बदले में उसे केस वापस लेना होगा। शादी की बात पर युवती केस वापस लेने के लिए मान गई। उसके बाद युवी ने केस वापस ले लिया और 8 नवंबर को युवती ने केस वापस ले लिया। शादी के बाद हैप्पी ने युवती से कहा कि जब तक वो अपने माता पिता को नहीं मना लेता तब तक वो अपने माता पिता के साथ रहे।

युवती ने बताया कि 19 नवंबर को हैप्पी उसे अपनी फैक्ट्री ले गया जहा उसके भाई भी मौजूद थे। हैप्पी ने युवता से शराब की ड्रिंक बनाने को कहा लेकिन युवती ने मना कर दिया। उसके बाद हैप्पी ने उसे जबरन शराब में नशीला पदार्थ पिलाया और भाईयों के साथ मिलकर दुष्कर्म किया। तीनों के चंगुल से छूटने के बाद वो थाना बस्ती जोधेवाल शिकायत करने पहुंची। जहां पुलिस कर्मियों ने उसकी शिकायत सुनने से मना कर दिया। वूमेल सेल में भी उसकी कोई 1बात नहीं सुनी गई। उसके बाद युवती का कहना है कि जोधेवाल पुलिस ने उसकी गलत रिपोर्ट बनाई जिसके बाद उसने पुल से आत्महत्या करने की कोशिश की। लेकिन लोगों ने उसे बचा लिया। आखिर में युवती जब डीजीपी से मिली तो पुलिस ने केस दरेज किया।