जहां रोज भेजे जाते थे 40 लाख खत वो अंडरग्राउंड पोस्टल रेलवे जा रहा खुलने

नई दिल्ली। एक ऐसा पोस्टल रेलवे पब्लिक के लिए 14 साल बाद खुलने जा रहा हैं जिसमें रोज 40 लाख खत भेजे जाते थे। लंदन में स्थित अंडरग्राउंड पोस्टल रेलवे 14 साल बाद पब्लिक के लिए खोला जाएगा इसे 28 जुलाई को खोला जाएगा यहां विजिटर्स को पहाड़ो से गुजरते स्टेशनों के माध्यम से 10.4 किलोमीटर तक सवारी करने का मौका मिलेगा अब यह एक म्यूजियम में तब्दील हो चुका हैं। यह पोस्टल रेलवे सेंट्रल लंदन के क्लेरकेनवेल में स्थित हैं।

आपकों बता दें कि हिस्ट्री की झलक देंखने को मिलेगी इस म्यूजियम में यहां ऑडियो-विजुअल माध्यम के जरिए इस अंडरग्राउंड पोस्टल रेलवे की हिस्ट्री देखने को मिलेगी इसे बनाने की शुरुआत 1915 में हुई थी उन दिनों डाक गाड़ियों की वजह से लंदन की सड़कों पर काफी ट्रैफिक लगा था और उससे ही छुटकारा पाने के लिए इसे बनाया गया साल 1972 में यह बनकर तैयार हुआ और पब्लिक के लिए खुला था।

यह पोस्टल रेलवे दिन में 22 घंटे संचालित होती थी रोज 40 लाख खतों को इसके जरिए भेजा जाता था मई 2003 में इसे बंद कर दिया गया था अमेरिका की पोस्टल सर्विस कंपनी रॉयल मेल के मुताबिक रोड ट्रांसपोर्ट के मुकाबले इसके जरिए खतों पोस्टकार्ड और कोरियर को भेजना काफी मंहगा पड़ रहा हैं।