जानिए अनोखे आंध्र प्रदेश की विशेषताएं

आंध्र प्रदेश में समृद्ध सांस्कृतिक विरासत और विविध पर्यटक आकर्षण मौजूद हैं। आंध्र प्रदेश राज्य में प्राकृतिक पहाड़, जंगल, समुद्र तट और मंदिर शामिल हैं। निज़ाम का शहर और मोतियों का शहर नाम से भी विख्यात हैदराबाद, आज देश के सबसे विकसित शहरों में एक और सूचना प्रौद्योगिकी, ITES और जैव प्रौद्योगिकी का आधुनिक केंद्र है। उत्तर और दक्षिण भारत के मिलन बिंदु के रूप में अपने अनन्य स्वरूप का प्रतिनिधित्व करते हुए हैदराबाद, अपने समृद्ध इतिहास, संस्कृति और वास्तुकला तथा भौगोलिक और सांस्कृतिक दोनों तौर पर बहुभाषी संस्कृति के लिए जाना जाता है।

Andhra

आंध्र प्रदेश कई धार्मिक तीर्थ केंद्रों का घर है। तिरुपति, भगवान वेंकटेश्वर का निवास, दुनिया में सबसे समृद्ध और सबसे अधिक दर्शनीय धार्मिक केंद्र (किसी भी आस्था का) है। श्रीशैलम, श्री मल्लिकार्जुन का निवास, भारत के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है, अमरावती का शिव मंदिर पंचाराममों में से एक, तथा यादगिरिगुट्टा, विष्णु के अवतार श्री लक्ष्मी नरसिंह का निवास स्थान है। वारंगल में रामप्पा मंदिर और हज़ार स्तंभों का मंदिर, कतिपय बारीक़ मंदिर नक्काशियों के लिए प्रसिद्ध हैं। राज्य में अमरावती, नागार्जुन कोंडा, भट्टीप्रोलु, घंटशाला, नेलकोंडपल्ली, धूलिकट्टा, बाविकोंडा, तोट्लकोंडा, शालिगुंडेम, पावुरालकोंडा, शंकरम, फणिगिरि और कोलनपाका में कई बौद्ध केंद्र हैं।

विशाखापट्नम में गोल्डन बीच, बोर्रा में एक लाख वर्ष पुराने चूना-पत्थर की गुफाएं, सुरम्य अरकु घाटी, हार्सले पहाड़ियों के हिल-रिसॉर्ट, पापी कोंडलु के संकरे रास्ते से गोदावरी नदी में नौका-दौड़, इट्टिपोतला, कुंतला के झरने और तालकोना में समृद्ध जैव-विविधता, इस राज्य के कुछ प्राकृतिक आकर्षणों में शामिल हैं। विशाखापट्नम कई पर्यटन आकर्षणों का केंद्र है, जैसे कि INS कारासुरा पनडुब्बी संग्रहालय (भारत में अपनी तरह का एकमात्र), याराडा समुद्री तट, अरकु घाटी, VUDA पार्क, इंदिरागांधी चिड़ियाघर. आंध्र प्रदेश की जलवायु ज्यादातर उष्णकटिबंधीय है और नवंबर से जनवरी के बीच का समय यात्रा के लिए सबसे अच्छा है। मानसून का मौसम जून में शुरू और सितंबर में समाप्त होता है, अतः इस अवधि के दौरान यात्रा उचित नहीं होगी।

(इनपुट, साभार विकीपीडिया)